बीटीसी 2012 : ऑनलाइन आवेदनों की खामियां बनीं सिरदर्द

  • चयन प्रक्रिया रुकी
  • दिक्कतें दूर करने को जल्द जारी होंगे दिशानिर्देश
  • प्राचार्यो ने निदेशक को बताई दिक्कत

जागरण ब्यूरो, लखनऊ : बीटीसी 2012 चयन के लिए अभ्यर्थियों से पहली बार मांगे गए ऑनलाइन आवेदनों ने चयनकर्ताओं के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। ऑनलाइन आवेदन की खामियों की वजह से चयन प्रक्रिया पर ब्रेक लग गया है। इन खामियों से परेशान जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों (डायट) के प्राचार्यों ने मंगलवार को यहां राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) के निदेशक महेंद्र सिंह से समस्याएं बतायीं। निदेशक ने डायट प्राचार्यों से कहा है कि समस्याओं के निराकरण के लिए एससीईआरटी की ओर से जल्द ही दिशानिर्देश भेजे जाएंगे।

बीटीसी 2012 के लिए अभ्यर्थियों से ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे। ऑनलाइन आवेदन करते समय कई अभ्यर्थियों ने गलत विकल्पों पर ‘क्लिक’ कर दिया है। मसलन कुछ अभ्यर्थियों ने पुरुष की जगह महिला विकल्प भर दिया है। कुछ ने कला की जगह विज्ञान वर्ग भर दिया है। कुछ ने हाईस्कूल, इंटरमीडिएट व स्नातक परीक्षाओं के गलत अंक भर दिये हैं। कुछ अभ्यर्थी ऐसे हैं जिन्होंने आवेदन करते समय अपनी आयु गलत अंकित कर दी है।

कई अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन आवेदन में जो आइडी प्रूफ दिया है उसका नंबर वास्तविक से मेल नहीं खा रहा है। कुछ ऐसे भी अभ्यर्थी हैं जिन्होंने बिना फोटो वाले आइडी प्रूफ का ब्योरा दर्ज कराया है। इस तरह आवेदनों से काफी भ्रम स्थिति भी बन रही है और तमाम आवेदन गलत और अपूर्ण जानकरी भरे गए हैं। इनका देखकर लगता है कि ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया में काफी खामिया हैं। काउन्सिलिंग के दौरान अभिलेखों से मिलान करने पर यह खामियां उजागर हुईं तो अभ्यर्थियों ने भूल सुधार के लिए संबंधित डायट में प्रत्यावेदन दिया। डायट प्राचार्यों ने जब यह समस्याएं एससीईआरटी निदेशक को बतायी तो उन्होंने बीटीसी चयन सूची को जारी करने पर रोक लगा दी।

बैठक में डायट प्राचार्यों ने ऑनलाइन आवेदन की खामियों के बारे में एससीईआरटी निदेशक को जानकारी दी। उन्होंने कहा कि गलती सुधारने के लिए ऑनलाइन आवेदनों से छेड़छाड़ आइटी एक्ट का उल्लंघन होगा। दिक्कत यह भी है कि यदि वे अभ्यर्थियों की गलितयों को दुरुस्त करते हैं तो इससे मेरिट सूची में काफी उलटफेर होगा।

डायट प्राचार्यों ने यह भी बताया कि बीटीसी 2012 चयन के संबंध में जारी किये गए शासनादेश में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के आश्रितों को आयु सीमा में छूट का जिक्र न होने के कारण अभ्यर्थी इस बारे में भी पूछताछ कर रहे हैं। समस्याओं के निराकरण के लिए दिन भर मंथन चला। निदेशक एससीईआरटी ने डायट प्राचार्यों को आश्वस्त किया है की समस्याओं के निराकरण के लिए जल्दी ही दिशानिर्देश भेजे जाएंगे |
बीटीसी 2012 : ऑनलाइन आवेदनों की खामियां बनीं सिरदर्द Reviewed by BRIJESH SHRIVASTAVA on 8:24 AM Rating: 5

No comments:

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.