शिक्षा निदेशालय से उठाए गए अनशनकारी : लखनऊ में लक्ष्मण मेला मैदान में बुधवार से होगा आमरण अनशन

  • लखनऊ में लक्ष्मण मेला मैदान में बुधवार से होगा आमरण अनशन

  • अस्पताल में भर्ती हुए दो अन्य अभ्यर्थी

इलाहाबाद : शिक्षा निदेशालय में आमरण अनशन पर बैठे बीटीसी अभ्यर्थियों को उठा दिया गया। मंगलवार की रात नौ बजे के लगभग पुलिस-प्रशासन की टीम ने प्रदर्शनकारियों की सचिव संजय सिन्हा से वार्ता कराई, उन्होंने अभ्यर्थियों की मांग पर आधारित पत्र प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा को फैक्स किया, इसके बाद पुलिस ने दबाव बनाकर सबको वहां से हटा दिया। यहां से उठकर अभ्यर्थी रात में लखनऊ के लिए रवाना हो गए। वहां बुधवार से लक्ष्मण मेला मैदान में आमरण अनशन शुरू करेंगे। वहीं आमरण अनशन पर बैठे दो और अभ्यर्थियों के स्वास्थ्य में गिरावट आ गई जिन्हें तेज बहादुर सप्रू चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। 

सहायक अध्यापकों की 15 हजार पदों की भर्ती में आवेदन की अचानक नई समय सारणी लागू कर दी गई। इससे नाराज विशिष्ट बीटीसी, उर्दू बीटीसी व बीटीसी 2011 के अभ्यर्थी शिक्षा निदेशालय में गुरुवार से आमरण अनशन कर रहे थे। बीटीसी 2011 संघर्ष मोर्चा के बैनर तले अभ्यर्थी अजय कुरील, अनिल शर्मा, सदाशिव शर्मा, मनोज राजपूत, संदीप, राजकरन, तरुण यादव, मनिंदर यादव, मयंक प्रताप सिंह, पंकज शक्ति, समीर पवार, अनिल खेड़ा, विनय, राम किशन, राहुल बम्बोज ने आमरण अनशन शुरू किया। मंगलवार को एटा के मनोज व सदाशिव वर्मा का स्वास्थ्य खराब होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया। इनके पहले मयंक प्रताप सिंह, रामकिशन, संदीप व समीर राणा अस्पताल में भर्ती हैं। दोपहर बाद अभ्यर्थियों से वार्ता करने शिक्षा निदेशालय पहुंचे सीओ व एसीएम ने अभ्यर्थियों की बेसिक शिक्षा परिषद सचिव संजय सिन्हा से वार्ता कराने की बात कहकर अनशन खत्म करने को कहा, परंतु वे नहीं माने। शाम छह बजे सचिव सिन्हा की अभ्यर्थियों के साथ हुई वार्ता का कोई परिणाम भी नहीं निकला। फिर रात साढ़े आठ बजे सिविल लाइंस थाना प्रभारी अमरनाथ यादव व छात्रनेता विजय द्विवेदी ने मध्यस्ता कर अनशनकारियों की सचिव संजय सिन्हा से पुन: वार्ता कराई। सचिव सिन्हा ने उनकी मांग पूरी करने पर असमर्थता जताया, परंतु मांगों पर आधारित पत्र प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा को फैक्स कर दिया। प्रदर्शनकारी इसके बाद भी हटने को तैयार नहीं थे तब पुलिस ने दबाव बनाकर उन्हें हटा दिया। इसके बाद सब लखनऊ रवाना हो गए। इस दौरान योगेश पांडेय, ध्यान सिंह, अजीत मिश्र, सीमा, पूजा, आरती, नीलम, राज दीक्षित, अखिलेश, कीर्ति मौजूद रहे।नियुक्ति प्रक्रिया की नई समय सारणी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे बीटीसी अभ्यर्थियों को जूस पिलाकर अनशन समाप्त कराया गया। इससे पूर्व प्रदर्शन करते बीटीसी अभ्यर्थी।

  • अनशनकारियों को मिला शिक्षक नेताओं का समर्थन
शिक्षा निदेशालय में आमरण अनशन कर रहे बीटीसी अभ्यर्थियों को शिक्षक नेताओं का पुरजोर समर्थन मिला है। शिक्षा निदेशालय पहुंचे उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ शर्मा गुट के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य अजय कुमार सिंह ने शासन की उदासीनता पर नाराजगी व्यक्त की। कहा कि वे अभ्यर्थियों की हर लड़ाई में उनका साथ देंगे। शर्मा गुट के मंत्री डॉ. वातात्मज मिश्र ने तेज बहादुर सप्रू चिकित्सालय जाकर अभ्यर्थियों का हालचाल लेकर संघर्ष जारी रखने का हौसला दिया। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ठकुराई गुट के प्रदेशीय मंत्री लालमणि द्विवेदी व चेतनारायण गुट के मंडलीय मंत्री डॉ. नवीन पांडेय ने अभ्यर्थियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने का आश्वासन दिया।
  • क्या है पूरा मामला
बेसिक शिक्षा परिषद सचिव ने दो दिसंबर को राष्ट्रीय सूचना केंद्र से स्वीकृत समय-सारणी भेजी, जिसमें नियुक्ति प्रक्रिया में आवेदन की अंतिम तिथि दस जनवरी 2015 थी। परंतु शासनादेश में समय-सारणी पूरी तरह से बदल दी गई। जो प्रक्रिया 13 दिसंबर से दस जनवरी तक चलनी थी, नई समय सारणी के अनुसार वह 13 दिसंबर से शुरू होकर दस मार्च 2015 तक चलेगी। अभ्यर्थियों का कहना है समय सारणी में हुए बदलाव से सभी बीटीसी 2011, विशिष्ट बीटीसी, उर्दू बीटीसी के प्रशिक्षुओं के शैक्षिक गुणांक कम होने से वे बेरोजगार रहे जाएंगे। इसको लेकर अभ्यर्थी आमरण अनशन कर रहे हैं।
खबर साभार : दैनिक जागरण
  • बीटीसी प्रशिक्षुओं का अनशन खत्म
  • दबाव में टूट गए बीटीसी प्रशिक्षु,
  • अधिकारियों की अनदेखी से आक्रोश
इलाहाबाद। बीटीसी-2011, विशिष्ट बीटीसी, उर्दू बीटीसी के लिए अलग से शिक्षक भर्ती घोषित करने की मांग को लेकर शिक्षा निदेशालय पर आंदोलनरत बीटीसी प्रशिक्षुओं का अनशन मंगलवार को देर शाम खत्म हो गया। पुलिस और अधिकारियों के दबाव में प्रशिक्षु अनशन खत्म करने पर मजबूर हो गए। अधिकारियों की ओर से बरती जा रही अनदेखी के कारण बीटीसी प्रशिक्षुओं में आक्रोश है। देर शाम अनशन खत्म कर वे अपने घरों को चले गए। बीटीसी प्रशिक्षु 2011 एवं 2012 के लिए अलग-अलग सहायक अध्यापकों की भर्ती की मांग को लेकर पिछले पांच दिन से अनशन पर बैठे थे।

बीटीसी प्रशिक्षुओं के आंदोलन के बाद आखिरकार सरकार ने शिक्षक भर्ती की घोषणा की थी। इस भर्ती में बाद में शासन की ओर से 2012 के प्रशिक्षुओं को शामिल करने की मंशा से अंतिम तिथि बढ़ाकर 10 मार्च कर दी गई। सरकार की ओर से अंतिम तिथि बढ़ाने का बीटीसी 2011 के प्रशिक्षुओं ने विरोध करना शुरू कर दिया। प्रशिक्षुओं का दबाव बढ़ने के कारण सचिव ने जिलाधिकारी एवं एसएसपी से निदेशालय परिसर खाली करवाने के साथ आंदोलन को नियम विरुद्ध बताया था।

सोमवार को प्रशिक्षुओं ने सचिव का घेराव किया और उनकी कार के आगे लेट गए थे। इसके खिलाफ परिषद के उप सचिव की ओर से अनशनकारियों के खिलाफ सिविल लाइंस थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाई गई है। प्राथमिकी दर्ज करवाने के बाद से मंगलवार को दिनभर पुलिस अनशनकारियों पर दबाव बनाती रही। अंतत: देर शाम पुलिस ने अनशनकारियों को अनशन खत्म करने पर मजबूर कर दिया। कड़ाके की ठंड में खुले आसमान के नीचे धरने पर बैठे बीटीसी प्रशिक्षुओं की लगातार हालत खराब हो रही थी। मंगलवार को एटा के मनोज वर्मा एवं सदाशिव शर्मा की हालत बिगड़ने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया। अनशन पर बैठने वालों के समर्थन में योगेश पांडेय आदि प्रशिक्षु मौजूद रहे। आंदोलन के पांचवें दिन दो अनशनकारी बीमार अस्पताल में भर्ती सचिव बेसिक शिक्षा परिषद से वार्ता करते बीटीसी प्रशिक्षु और मंगलवार देर शाम प्रशिक्षुओं को जूस पिलाकर अनशन खत्म कराया गया।
बीटीसी प्रशिक्षुओं का अनशन खत्म
खबर साभार : अमर उजाला
इलाहाबाद। बीटीसी-2011, विशिष्ट बीटीसी, उर्दू बीटीसी के लिए अलग से शिक्षक भर्ती घोषित करने की मांग को लेकर शिक्षा निदेशालय पर आंदोलनरत बीटीसी प्रशिक्षुओं का अनशन मंगलवार को देर शाम खत्म हो गया। पुलिस और अधिकारियों के दबाव में प्रशिक्षु अनशन खत्म करने पर मजबूर हो गए। अधिकारियों की ओर से बरती जा रही अनदेखी के कारण बीटीसी प्रशिक्षुओं में आक्रोश है। देर शाम अनशन खत्म कर वे अपने घरों को चले गए। बीटीसी प्रशिक्षु 2011 एवं 2012 के लिए अलग-अलग सहायक अध्यापकों की भर्ती की मांग को लेकर पिछले पांच दिन से अनशन पर बैठे थे।


Enter Your E-MAIL for Free Updates :   
शिक्षा निदेशालय से उठाए गए अनशनकारी : लखनऊ में लक्ष्मण मेला मैदान में बुधवार से होगा आमरण अनशन Reviewed by BRIJESH SHRIVASTAVA on 8:09 AM Rating: 5

No comments:

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.