बीटीसी 2015 में डिप्लोमा धारक भी दाखिला ले सकते, उन्हें 14 से 16 सितंबर तक प्रवेश लेने का मौका

☀ जिस जिले का कटऑफ अभ्यर्थी के अंकों के अनुरूप हो, वहां ले दाखिला

☀ डायट में ही जमा करनी होगी फीस, सारे अभिलेखों की करानी होगी जांच


इलाहाबाद : बीटीसी 2015 में डिप्लोमा धारक भी दाखिला ले सकते हैं। उन्हें 14 से 16 सितंबर तक प्रवेश लेने का मौका दिया गया है। ऐसे अभ्यर्थियों को जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान यानी डायट पर ही फीस जमा करनी होगी और सारे शैक्षिक अभिलेखों की जांच करानी पड़ेगी। यदि सब कुछ दुरुस्त रहेगा तो उन्हें भी शिक्षक बनने का मौका मिलेगा।

प्रदेश भर में इन दिनों बीटीसी 2015 के लिए प्रवेश प्रक्रिया तेजी से चल रही है। इसी वर्ष माध्यमिक शिक्षा परिषद ने प्राविधिक शिक्षा परिषद से तीन साल का डिप्लोमा करने वाले अभ्यर्थियों को इंटरमीडिएट के समकक्ष माना है। इस आशय का आदेश जारी होने की सूचना बीटीसी का आवेदन शुरू होने से पहले परीक्षा नियामक प्राधिकारी को नहीं थी, इसलिए बीटीसी में ऐसे अभ्यर्थियों को अर्ह नहीं माना गया था। नई समकक्षता का गजट जारी होने के बाद परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव नीना श्रीवास्तव ने इस संबंध में आदेश निर्गत कर दिए हैं। उन्होंने डायट प्राचार्यो को भेजे निर्देश में कहा है कि जो युवा प्राविधिक शिक्षा परिषद का तीन वर्ष का डिप्लोमा करने के बाद स्नातक या फिर उसके समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण कर चुके हैं वह नए सिरे से आवेदन कर सकते हैं।

उन्हें 14 से 16 सितंबर के बीच उस डायट मुख्यालय पर जाना होगा, जहां का कटऑफ उनके अंकों के अनुरूप हो। स्पष्ट किया गया है कि यदि अभ्यर्थी के अंक मौजूदा कटऑफ से मेल नहीं खाएगा तो प्रवेश नहीं मिलेगा। 

सचिव ने कहा कि अर्ह अभ्यर्थियों को डायट पर ही बीटीसी की फीस जमा करके पहले शैक्षिक अभिलेखों की काउंसिलिंग करानी होगी और सब कुछ ठीक मिलने पर ही उसे बीटीसी में दाखिला पाने के लिए प्रशिक्षण फीस आदि जमा करनी होगी। इसमें तकनीकी ज्ञान रखने वाले युवाओं को भी मास्साब बनने का मौका मिलेगा। वहीं, दूसरी ओर निजी कालेजों में सीटें भरने की प्रक्रिया बेहद धीमी है। कई जिलों में पचास से साठ फीसद तक सीटें अब भी खाली हैं।

बीटीसी 2015 में डिप्लोमा धारक भी दाखिला ले सकते, उन्हें 14 से 16 सितंबर तक प्रवेश लेने का मौका Reviewed by Praveen Trivedi on 5:12 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.