पद खाली, भर्ती पर असमंजस: तमाम भर्तियों के बाद भी बड़ी संख्या में शिक्षकों के पद खाली, आदेश जारी होने की राह तक रहे उम्मीदवार

इलाहाबाद  :  बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में तमाम भर्तियों के बाद भी बड़ी संख्या में शिक्षकों के पद खाली चल रहे हैं। पिछले माह उर्दू एवं अन्य शिक्षक भर्तियां कराने की सुगबुगाहट तेज हुई थी, लेकिन अभी तक आदेश जारी होने की राह देखी जा रही है। वहीं, युवा 30 हजार पदों पर भर्तियां शुरू कराने के लिए आंदोलन छेड़ें हैं। अब नवंबर के दूसरे पखवारे में ही आदेश जारी होने की उम्मीद है।

परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षकों की कमी पूरा करने के लिए इधर कुछ वर्षो में कई भर्तियां हुई हैं। इस समय उच्च प्राथमिक विद्यालयों में अंशकालिक अनुदेशकों की भर्ती प्रक्रिया चल रही है। इसी बीच बीटीसी 2013 बैच के युवा शिक्षा निदेशालय में अनवरत धरना देकर 30 हजार पदों पर भर्तियां कराने की मांग कर रहे हैं। हालांकि राज्य सरकार की भी मंशा है कि विधानसभा चुनाव प्रक्रिया के मौके पर शिक्षक भर्तियां चलती रहें। शायद इसीलिए पिछले माह नौ हजार सामान्य शिक्षक व उर्दू शिक्षकों की भर्ती करने की तैयारी हुई थी। अभी तक उसका आदेश जारी नहीं हो सका है। उम्मीद है कि नवंबर में आदेश जारी होगा,

लेकिन बीटीसी प्रशिक्षु इतने पदों पर भर्ती के लिए राजी नहीं है। इस समय प्रदेश में सहायक अध्यापकों के 42758 पद खाली हैं, जबकि प्रधानाध्यापक के 15275 पद रिक्त हैं यदि वह भी भर दिए जाएं तो शिक्षकों के करीब 58 हजार पद खाली होंगे। बीटीसी प्रशिक्षुओं का कहना है कि 30 हजार पदों पर भर्तियां होने के बाद भी पद रिक्त रहेंगे। हालांकि इसी बीच जिलों में शिक्षकों के प्रमोशन हुए हैं। इसमें भी सहायक अध्यापकों के पद रिक्त हुए हैं। उनकी रिपोर्ट जिलों से मंगाई गई है। माना जा रहा है कि रिपोर्ट आने के बाद भर्तियों की घोषणा होगी। वहीं, बीटीसी प्रशिक्षु अब भी बेमियादी धरने पर डटे हैं।

पद खाली, भर्ती पर असमंजस: तमाम भर्तियों के बाद भी बड़ी संख्या में शिक्षकों के पद खाली, आदेश जारी होने की राह तक रहे उम्मीदवार Reviewed by Sona Trivedi on 5:37 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.