सोशल मीडिया पर पुराने और छेड़छाड़ किये गए आदेश के जरिये छुट्टी की अफवाह हुई वायरल, कई चैनलों ने भी अवकाश की सूचना की प्रसारित, देर रात किया अफवाह का खंडन

सोशल मीडिया पर स्कूलों की 12 जनवरी तक के अवकाश की खबर इस कदर वायरल हुई कि कई नामी समाचार  समूहों के ट्विटर हैंडल से लेकर चैनलों मे यह  खबर छाई रही, दोपहर बाद प्राइमरी का मास्टर ● कॉम एडमिन टीम द्वारा की गयी पड़ताल में यह सामने आया कि कुछ सोशल मीडिया के उपद्रवी और अफवाही तत्वों द्वारा वर्ष 2013 के जारी पत्र को एडिट करके तत्कालीन बेसिक शिक्षा निदेशक वासुदेव यादव के हस्ताक्षर में इसे सोशल मीडिया में छोड़ दिया।


इस पूरे प्रकरण के कुछ तस्वीरें आपके साथ साझा किया जा रहा है। जहाँ ईटीवी के मुख्य ट्विटर हैंडल पर इस फेक आदेश के वायरल और अफवाह फैलाने की बात कही गयी, वहीं ईटीवी उर्दू के ट्विटर एकाउंट से कई चैनलों द्वारा  सीएम अखिलेश  के आदेश से 12 जनवरी तक स्कूल बंदी की खबरें फ़्लैश की जाने लगी। 




मामला अवकाश का था इसलिए यह खबर एक दूसरे से पूछताछ के नाम पर इस कदर वायरल हुई कि कई  समाचार चैनलों, वेबसाइट्स और ट्विटर एकाउंट्स पर भी इसे बिना पुष्टि के चला दिया गया। प्राइमरी का मास्टर ● कॉम एडमिन टीम द्वारा जारी स्पष्टीकरण के बाद  देर रात तक मामला साफ़ हुआ और अंतोगत्वा ऐसे ट्वीट हटा लिए गए और चैनलों द्वारा खबर का खंडन प्रसारित किया जाने लगा।






प्राइमरी का मास्टर ● कॉम एडमिन टीम द्वारा जारी  स्पष्टीकरण

🚧  शीतलहर के कारण अवकाश की फर्जी सूचना से भ्रमित न हों। विभाग से प्रदेश स्तर पर कोई भी अवकाश घोषित नहीं हुआ है।


गौरतलब है कि इस समय व्हाट्सएप्प और फेसबुक आदि पर एक फर्जी इमेज चल रही है जिसमें 12 जनवरी 2017 तक का अवकाश घोषित होने की बात लिखी है। जब प्राइमरी का मास्टर ● कॉम एडमिन टीम ने इसकी जाँच की तो पाया कि ये आदेश नितांत फर्जी है। सर्वप्रथम तो इस समय वासुदेव यादव निदेशक नहीं है। दूजे अभी भी कई जनपदों में धूप निकल रही है। अतः इतनी लम्बी अवधि के अवकाश का कोई अर्थ नहीं था।


दरअसल वर्ष 2013 के एक आदेश को एडिट करके इस आदेश को बनाया गया है। 2013 का आदेश नीचे लिंक में है। आप देखेंगे तो पाएँगे कि आदेश संख्या तक वही है। अतः भ्रमित न हों वर्तमान में प्रदेश स्तर से कोई भी शीतावकाश घोषित नहीं हुआ है, यदि भविष्य में होगा तो प्राइमरी का मास्टर ● कॉम एडमिन टीम आपको अवश्य सूचित करेगा। कृपया अफवाहों से बचें।
फर्जी और एडिटेड आदेश




सोशल मीडिया पर पुराने और छेड़छाड़ किये गए आदेश के जरिये छुट्टी की अफवाह हुई वायरल, कई चैनलों ने भी अवकाश की सूचना की प्रसारित, देर रात किया अफवाह का खंडन Reviewed by Praveen Trivedi on 12:46 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.