जहाँ सभी आयोग भर्ती के धुन में, बेसिक शिक्षा परिषद पर आचार संहिता का बुखार : प्रदेश भर में युवाओं को नौकरियां देने वाले संस्थान, बोर्ड एवं आयोगों का इन दिनों नजारा अलग-अलग

⚫ बेसिक शिक्षा परिषद में आचार संहिता के नाम पर काउंसिलिंग व तैनाती रोक दी गई


इलाहाबाद : प्रदेश भर में युवाओं को नौकरियां देने वाले संस्थान, बोर्ड एवं आयोगों का इन दिनों नजारा अलग-अलग है। लगभग सभी बोर्ड एवं आयोगों में पहले से संचालित चयन प्रक्रिया बिना किसी गतिरोध के संचालित है, वहीं बेसिक शिक्षा परिषद में आचार संहिता के नाम पर काउंसिलिंग व तैनाती रोक दी गई हैं, जबकि चुनाव के पहले अफसरों ने युवाओं को आश्वस्त किया था कि फलां-फलां भर्ती में आचार संहिता का कोई रोड़ा नहीं होगा। 




लोकसेवा व उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग : उप्र लोकसेवा आयोग पहली बार स्टाफ नर्सो की बड़े पैमाने पर भर्ती कराने जा रहा है। पिछले दिनों इसका विज्ञापन जारी हो गया है और आवेदन लिए जा रहे हैं, पशु चिकित्साधिकारी समेत तमाम पदों पर सीधी भर्ती के तहत चयन होना है। उसके भी आवेदन की प्रक्रिया चल रही है।  दो दिन पहले ही सहायक अभियोजन अधिकारी यानी एपीओ 2015 की मुख्य परीक्षा का परिणाम जारी हुआ है और अगले माह से साक्षात्कार शुरू होने हैं। इसके अलावा छिटपुट परिणाम आए दिन जारी हो रहे हैं। इसी माह पीसीएस 2017 का नोटीफिकेशन भी जारी करने की तैयारी है। 




उधर, उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग में असिस्टेंट प्रोफेसर के 11 विषयों के परिणाम ताबड़तोड़ जारी हुए हैं। साथ ही साक्षात्कार इधर लगातार हो रहे हैं। 




माध्यमिक चयन बोर्ड व निदेशालय : माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड में इन दिनों प्रवक्ता एवं स्नातक शिक्षक यानी टीजीटी 2013 के साक्षात्कार एवं अंतिम परीक्षा परिणाम जारी हो रहे हैं। इसी के साथ चयनित अभ्यर्थियों को विद्यालयों का आवंटन भी हो रहा है। शिक्षा निदेशालय में राजकीय माध्यमिक कालेजों में 9342 एलटी ग्रेड शिक्षकों की नियुक्ति के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे जा रहे हैं। 




बेसिक शिक्षा व परीक्षा नियामक प्राधिकारी : बेसिक शिक्षा परिषद में इधर उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 29334 विज्ञान-गणित शिक्षकों की भर्ती में रिक्त पद भरने की प्रक्रिया शुरू हुई, लेकिन बीच में उसे आचार संहिता के नाम पर रोक दिया गया, जबकि यह भर्ती सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर हो रही थी। इसी तरह शीर्ष कोर्ट के निर्देश पर प्राथमिक स्कूलों में प्रशिक्षु शिक्षक के रूप में नियुक्त 839 युवाओं की मौलिक नियुक्ति का आदेश हुआ, लेकिन बीएसए उसे भी रोके हैं।




 उच्च प्राथमिक स्कूलों के लिए 32 हजार से अधिक अंशकालिक अनुदेशकों की भर्ती के लिए आवेदन लिए जा चुके हैं, लेकिन काउंसिलिंग को रोका गया है। प्राथमिक स्कूलों में 12460 सहायक टीचर एवं 4000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती को आवेदन लिए जा चुके हैं। जिस तरह से पुरानी भर्तियां रोकी गई है उससे यह काउंसिलिंग फिलहाल होने के आसार नहीं है। कोर्ट में अवमानना का प्रकरण फंसने पर परिषद ने 2013 की दस हजार सहायक शिक्षक भर्ती में शामिल होने के लिए डीएड अभ्यर्थियों से आवेदन मांगा है।



जहाँ सभी आयोग भर्ती के धुन में, बेसिक शिक्षा परिषद पर आचार संहिता का बुखार : प्रदेश भर में युवाओं को नौकरियां देने वाले संस्थान, बोर्ड एवं आयोगों का इन दिनों नजारा अलग-अलग Reviewed by Sona Trivedi on 7:31 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.