बेसिक शिक्षा के डायरेक्टर का पद 82 दिनों से खाली होने से कार्य हो रहा प्रभावित,मामले को लेकर प्रदेश सरकार, शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अफसर नहीं हुए गंभीर

👉लाखों बच्चों को जुलाई में नहीं मिलेंगी किताबें
👉बेसिक शिक्षा के डायरेक्टर का पद 82 दिनों से खाली
👉योग दिवस की तैयारियां शुरू

इलाहाबाद। योग दिवस की तैयारिया शुरूहो गयी है।केपी इण्टर कालेज, संगम, प्रयाग संगीति समिति, झूंसी स्थित क्रियायोग आश्रम एवं अनुसंधान संस्थान, पतंजलि योग समिति एवं आनंद योग आश्रम नीवा प्रमुख संस्था हैं।
विभाग में स्थायी निदेशक के न होने से कार्य हो रहा प्रभावित
मामले को लेकर प्रदेश सरकार, शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अफ सर नहीं हुए अभी गंभीर शिक्षा विभाग में निदेशक पद के लिए हैं दो दर्जन वरिष्ठ अधिकारी
प्रदेश में भाजपा की सरकार बने हुए दो माह से अधिक हो गया है लेकिन बेसिक शिक्षा परिषद के निदेशक का पद 82 दिनों से रिक्त चल रहा है।इससे विभागीय कार्यप्रभावित हो गया है।इस मामले को लेकर प्रदेश सरकार और शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी गंभीर नहंी है जिससे कि ठप विभागीय कार्यआगे बढ़ सके और उसका लाभ जुलाईसत्र से परिषदीय विद्यालयों के लाखों छात्र-छात्राओं को मिल सके।ऐसे में उनको कम से कम तीन माह तक बिना किताबों के पढ़ना होगा जबकि शिक्षा विभाग में दो दर्जन से अधिक वरिष्ठ शिक्षा अधिकारी है जिनको बेसिक शिक्षा के निदेशक के पद का कार्यभार सौपा जा सकता था जिससे कि लाखों छात्र-छात्राओं को जुलाईसत्रसे पढ़ने के लिए क म से कम किताबें मिल जाती।प्रदेश के बेसिक शिक्षा के निदेशक दिनेश शर्माथे।उनका कार्यकाल 28 फरवरी को पूरा हो गया था।उसके बाद बेसिक शिक्षा के निदेशक का कार्यभार सचिव (शासन) बेसिक शिक्षा परिषद अजय कुमार सिंह ने संभाल लिया था।इस दौरान पुस्तकों के टेण्डर, परिषदीय विद्यालयों के लाखों छात्र-छात्राओं के लिए ड्रेस सहित अन्य तैयारियां होनी थी।प्रभारी निदेशक बेसिक शिक्षा / सचिव अजय कुमार सिंह ने पुस्तकों के टेण्डर को लेकर खेल शुरूकिया था कि इसी बीच सूबे में भाजपा की सरकार बन गयी और पुस्तकों का टेण्डर निरस्त करना पड़ा। लाखों छात्र-छात्राओं को अभी नहीं लग रहा है कि जुलाईसत्र तक पुस्तकें आसानी से उपलब्ध हो पायेगी। इसी प्रकार से अन्य विभागीय कार्य जो अभी तक हो जाना चाहिए था वह नहीं हो पाया है।इससे जुलाईसत्र से किताब, ड्रेस सहित अन्य परेशानियां होगी। शिक्षा विभाग में दो दर्जन ऐसे वरिष्ठशिक्षाधिकारी है जो कि निदेशक पद की दौड़ में शामिल है।इनमें सबसे वरिष्ठ सचिव बेसिक शिक्षा एवं सीमैट के निदेशक संजय सिन्हा, एडी माध्यमिक रमेश कुमार, यूपी बोर्ड की सचिव श्रीमती शैल यादव, अपर बेसिक शिक्षाधिकारी श्रीमती नीना श्रीवास्तव, श्रीमती कीर्ति गौतम, सचिव परीक्षा नियामक श्रीमती एस सिंह सहित अन्य वरिष्ठअधिकारी है।शासन के सूत्रों का कहना है कि बेसिक शिक्षा के निदेशक पद के लिए डीपीसी शीघ्र होने जा रही हैउसके बाद निदेशक पद पर स्थायी तैनाती होगी।वरिष्ठ शिक्षक नेता डा.शैलेश कुमार पाण्डेय का कहना है कि प्रदेश सरकार को अभी तक बेसिक शिक्षा के नये निदेशक की तैनाती कर देनी चाहिए थी ।

बेसिक शिक्षा के डायरेक्टर का पद 82 दिनों से खाली होने से कार्य हो रहा प्रभावित,मामले को लेकर प्रदेश सरकार, शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अफसर नहीं हुए गंभीर Reviewed by Brijesh Shrivastava on 8:22 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.