संक्रामक रोगों का पाठ भी पढ़ेंगे छात्र, आगामी शैक्षणिक सत्र में प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों के छात्र-छात्राओं को इन रोगों का भी सबक  जाएगा पढ़ाया

मानसूनी मौसम में संक्रामक रोगों के फैलने की आशंका बढ़ जाती है लेकिन, यह महामारी का रूप न ले लें, इसको लेकर आगामी शैक्षणिक सत्र में प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों के छात्र-छात्रओं को इन रोगों का भी सबक पढ़ाया जाएगा। प्रतिदिन प्रार्थना स्थल पर शिक्षक विद्यार्थियों को मच्छर और मक्खियों से फैलने वाले रोगों के बारे में जानकारी देते हुए उन्हें आडियो-विजुअल के माध्यम से बचाव के तरीके भी बताए जाएंगे। इसके साथ ही शिक्षक बच्चों की यूनीफार्म की भी जांच करेंगे। प्रदेश के संचारी रोग निदेशक ने इस संबंध में प्रदेश में सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारी को इस आशय का एक पत्र भेजा है। 





माध्यमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में प्रतिदिन प्रार्थना सभा के दौरान छात्र-छात्रओं को वायरल, मलेरिया, डेंगू आदि बुखार के बारे में जानकारी देते हुए इन रोगों के कारण, लक्षण और इलाज की जानकारी देंगे। इस दौरान शिक्षकगण बच्चों को यह भी जानकारी देंगे कि तेज बुखार आने पर क्या करें और क्या न करें। इसके अलावा शिक्षक बच्चों के यूनिफार्म की साफ-सफाई की जांच कर बच्चों को गंदगी और गंदे कपड़े पहनने से होने वाले दुष्परिणामों की जानकारी भी देंगे। स्कूलों में संगोष्ठी, वाद-विवाद प्रतियोगिता और नुक्कड़ नाटक के माध्यम से बच्चों को जागरूक करने के साथ ही रोकथाम टोली बनाकर शिक्षक मच्छर प्रजनन स्थल दिखाते हुए छात्र-छात्रओं को मच्छरों को नष्ट करने के तरीके बताते हुए मच्छरों को नष्ट करना भी सिखाएंगे। इसके अलावा शिक्षकगण अपने क्षेत्र का भ्रमण कर अभिभावकों को भी इन संक्रामक रोगों के प्रति जागरूक करेंगे। इससे उनमें जागरूकता पैदा होगी।

संक्रामक रोगों का पाठ भी पढ़ेंगे छात्र, आगामी शैक्षणिक सत्र में प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों के छात्र-छात्राओं को इन रोगों का भी सबक  जाएगा पढ़ाया Reviewed by Sona Trivedi on 7:28 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.