प्रदेश भर में शिक्षामित्रों का प्रदर्शन हुआ और तेज, लाठीचार्ज के बाद तालाबंदी के एलान से ज्यादातर स्कूलों में पढ़ाई ठप, प्रदेश बीजेपी दफ्तर का हुआ घेराव, दो की गई जान


ज्यादातर परिषदीय स्कूलों में पढ़ाई ठप
★ आज तालाबंदी का ऐलान
★ बीजेपी दफ्तर का घेराव किया

■  शिक्षामित्रों की मांगें:-
  प्रदेश सरकार केंद्र को प्रस्ताव भेजे कि वह अध्यादेश लाकर शिक्षामित्रों के मामले में यथास्थिति बनाए रखे या तत्काल रिव्यू पिटिशन दाखिल करे
⚫  सभी 1.72 लाख शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक के समान/समकक्ष पद पर स्थायी नियुक्ति देकर समान सुविधाएं दी जाएं
⚫  अगर शिक्षामित्र के ही पद पर भेजा जाए तो भी सहायक अध्यापकों के समान अधिकार-स्थायी नियुक्ति दें

समायोजन रद होने से शिक्षामित्रों का गुस्सा सातवें आसमान पर है। लगातार दूसरे दिन कार्य बहिष्कार जारी रहा, स्कूलों में ताले लटकते रहे और शिक्षामित्र सड़क पर उतरकर उग्र आंदोलन प्रदर्शन कर रहे हैं। वाराणसी में प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय का घेराव हुआ, मुख्यमंत्री के क्षेत्र गोरखपुर में अराजक शिक्षामित्रों पर लाठीचार्ज और पानी की बौछार करनी पड़ी। इलाहाबाद में उप मुख्यमंत्री के घर का घेराव हुआ। अन्य जिलों में भी प्रदर्शन अनवरत जारी रहने की सूचनाएं हैं। शिक्षामित्रों ने राहत मिलने तक कार्य बहिष्कार जारी रखने का एलान किया है।



वाराणसी व पूर्वाचल के विभिन्न जिले में गुरुवार को भी शिक्षामित्रों ने कामकाज ठप किया। करीब 1500 शिक्षामित्रों ने रविंद्रपुरी में प्रधानमंत्री का संसदीय कार्यालय घंटों घेरे रखा। गोरखपुर शहर में ित शिक्षामित्रों का आंदोलन ¨हिंसक  हो गया। उग्र शिक्षामित्रों ने जहां एक कार और दो बसों पर पथराव कर शीशे तोड़ दिए वहीं कई राहगीरों के साथ भी मारपीट की। पंत पार्क से गोरखनाथ मंदिर जाते समय धर्मशाला बाजार में रोके जाने पर धक्का-मुक्की शुरू कर दी। पुलिस ने फायरब्रिगेड की गाड़ी से पानी की बौछार डालकर भीड़ को नियंत्रित करने का प्रयास किया। पथराव होने पर लाठीचार्ज कर भीड़ तितर-बितर की। इसमें दो महिलाओं सहित आठ शिक्षामित्र घायल हो गए।


अमेठी के जामो ब्लाक में तैनात समायोजित दिव्यांग शिक्षामित्र महेश कुमार ने गुरुवार सुबह हरचंदपुर गांव के पास स्थित नाले में कूदकर आत्महत्या कर ली। लखीमपुर में बीएसए कार्यालय स्थित पेड़ पर चढ़कर एक शिक्षामित्र ने फांसी लगाने का प्रयास किया। प्रदर्शन के दौरान आधा दर्जन शिक्षामित्र बेहोश हो गए। गोंडा में अंबेडकर चौराहे पर लखनऊ हाईवे जाम कर दिया। बहराइच और श्रवस्ती, अंबेडकरनगर, सुलतानपुर, बाराबंकी, रायबरेली, फैजाबाद में दिन भर आंदोलन प्रदर्शन चला। बलरामपुर में शिक्षामित्र देवीपाटन मंदिर पहुंचे। हरदोई में विद्यालयों में ताला बंदकर प्रदर्शन किया।


पूरे यूपी में ज्यादातर प्राइमरी-जूनियर स्कूलों में लगातार दूसरे दिन पढ़ाई नहीं हुई। कई जिलों में बीएसए ने दूसरे स्कूलों से शिक्षकों को भेजकर पढ़ाई करवाने की कोशिश की, लेकिन शिक्षामित्रों ने स्कूल नहीं खुलने दिए। उन इलाकों में हालात और खराब हो रहे हैं जहां स्कूल शिक्षामित्रों के ही सहारे हैं। 40 से ज्यादा जिलों में शिक्षामित्रों ने शुक्रवार को पूरी तरह तालाबंदी का ऐलान किया है।



वाराणसी में पीएम मोदी के जनसंपर्क दफ्तर, इलाहाबाद में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और मथुरा में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के आवास पर शिक्षामित्रों ने घंटों धरना दिया। बाराबंकी में बीएसए को उनके ऑफिस में ही बंधक बना लिया गया। बस्ती में शिक्षामित्रों ने भीख मांगी वहीं सीतापुर में पुलिस और शिक्षामित्रों में झड़प हो गई। अंबेडकरनगर, बहराइच-श्रावस्ती, फैजाबाद, मीरजापुर, सुलतानपुर, मेरठ, शामली, बागपत और बुलंदशहर में भी शिक्षामित्रों ने जोरदार प्रदर्शन किया।


सुप्रीम कोर्ट के आदेश के सभी पहलुओं का विधिक अध्ययन किया जा रहा है। हम ऐसा समाधान चाहते हैं, जिससे कानून की मर्यादा बनी रहे और समस्या का तर्कसंगत, विधिसम्मत समाधान भी हो जाए।- आरपी सिंह, अपर मुख्य सचिव, बेसिक शिक्षा

प्रदेश भर में शिक्षामित्रों का प्रदर्शन हुआ और तेज, लाठीचार्ज के बाद तालाबंदी के एलान से ज्यादातर स्कूलों में पढ़ाई ठप, प्रदेश बीजेपी दफ्तर का हुआ घेराव, दो की गई जान Reviewed by Flipkart Amazon on 6:53 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.