आंदोलन की आग और भड़की, तीसरे दिन भी जिला मुख्यालयों पर अनशन , धरना-प्रदर्शन जारी, स्कूलों में पठन-पाठन प्रभावित : जनपदवार विरोध प्रदर्शन अपडेट

 ⚫ लखीमपुर में 150 शिक्षामित्रों ने अन्न-जल त्यागकर धरने पर

⚫ शिक्षामित्र आंदोलन खत्म करने को तैयार नही

⚫  ऐसे में शिक्षामित्रों पर सख्ती से निपटने की तैयारी 


इलाहाबाद : सहायक अध्यापक पद पर समायोजन रद होने से शिक्षामित्रों का गुस्सा थमने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार तीसरे दिन जिला मुख्यालयों पर आंदोलन का दौर जारी रहा। कई जिलों में शिक्षामित्र अनशन भी कर रहे हैं। लखीमपुर में 150 शिक्षामित्रों ने अन्न-जल त्यागकर धरना दिया। प्राथमिक स्कूलों में पठन-पाठन प्रभावित है, बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में भी तालाबंदी की कोशिशें हुई हैं। सूबे की सरकार के वादे के बाद शिक्षामित्र आंदोलन खत्म करने को तैयार नहीं है। ऐसे में शिक्षामित्रों पर सख्ती से निपटने की तैयारी है। 




लखनऊ में शिक्षामित्रों ने शुक्रवार को शिक्षा भवन स्थित जिला बेसिक शिक्षा कार्यालय के मेन गेट पर ताला लगाकर बीएसए को अंदर जाने से रोक दिया। चार घंटे तक शिक्षा भवन छावनी में तब्दील रहा। हरदोई और अंबेडकरनगर में शिक्षामित्र बेहोश हो गए तो लखीमपुर में 150 शिक्षामित्र अन्न-जल त्यागकर अनशन पर बैठे। फैजाबाद में संयुक्त मोर्चा गठित हुआ। बहराइच में शिक्षामित्रों ने कलेक्ट्रेट धरनास्थल से किसान डिग्री कॉलेज तक न्याय की अर्थी निकाली और हाईवे जाम किया। गोंडा के बीएसए दफ्तर का घेराव कर कार्यालय बंद करा दिया। सीतापुर, बाराबंकी, रायबरेली, सुलतानपुर, श्रवस्ती में भी प्रदर्शन हुआ। 





वाराणसी में बीएसए दफ्तर का घेराव और जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया। इलाहाबाद में कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह के राजापुर आवास का घेराव किया। बेसिक शिक्षा परिषद सचिव के कार्यालय के बाहर धरना दिया गया। कौशांबी के सिराथू में डिप्टी सीएम केशव मौर्य के पैतृक घर का घेराव हुआ। प्रतापगढ़ में वाहन जुलूस निकला।




⚫ पश्चिमी यूपी में आंदोलन तेज :

 मुरादाबाद में शिक्षामित्रों ने राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार भूपेंद्र सिंह का सिविल लाइंस स्थित आवास घेरा। सम्भल के बीआरसी केंद्रों को बंद कराया गया। अमरोहा में कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान के गजरौला स्थित कोरल न्यूज प्रिंट संस्थान में धरना दिया। रामपुर के मिलक में शिक्षामित्र की हालत बिगड़ गई। बरेली बीएसए दफ्तर में तालाबंदी हुई। शाहजहांपुर में ददरौल विधायक मानवेंद्र के आवास पर घेराव किया। बदायूं के बीएसए कार्यालय में तोड़फोड़ करने की कोशिश की। कई शिक्षामित्र बेहोश हो गए। मेरठ में मानव श्रृंखला बनाकर प्रदर्शन हुआ। सहारनपुर व बिजनौर में प्रदर्शन के दौरान शिक्षा मित्र बेहोश हो गई। मथुरा में शिक्षामित्रों ने ट्रेनें रोकने का प्रयास किया, जबकि आगरा में मंत्री एसपी सिंह बघेल के आवास का घेराव किया। एटा और फीरोजाबाद में भी प्रदर्शन हुआ। 



समायोजन रद होने से नाराज हैं प्रदेश भर के शिक्षामित्र

 शिक्षामित्रों से सरकार की पूरी सहानुभूति है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले की समीक्षा की जा रही है। शिक्षामित्र हिंसा, आगजनी और प्रदर्शन और शिक्षण कार्य बाधित न करें। - योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री



⚫ प्रदर्शन के दौरान हुए बेहोश

हरदोई में रूट मार्च के दौरान तीन महिला समेत चार शिक्षामित्र बेहोश हो गए। अंबेडकरनगर में महिला शिक्षामित्र गश खाकर गिर पड़ी।

⚫ मैनपुरी में हार्ट अटैक से महिला शिक्षामित्र की मौत

आगरा : मंडल के सभी जिलों में शिक्षामित्रों का प्रदर्शन तीसरे दिन भी जारी रहा। मैनपुरी में सदमे में आई महिला शिक्षामित्र सुनीता की हार्ट अटैक से मौत हो गई। उधर, अलीगढ़ में शिक्षा राज्यमंत्री संदीप सिंह के आवास राज पैलेस से पहले ही रोके जाने से नाराज शिक्षामित्र मैरिस रोड चौराहे पर ही धरने पर बैठ गए।





⚫ शिक्षामित्रों के मुद्दे से सरकार का वास्ता नहीं : सिद्धार्थनाथ1जासं, इलाहाबाद : चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि शिक्षामित्रों का समायोजन रद होने पर राज्य सरकार को कोई लेना-देना नहीं है। इलाहाबाद में सिविल लाइंस स्थित अपने निवास पर पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि सरकार ने समायोजन रद नहीं किया, बल्कि कुछ लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की थी, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है। इसके लिए पिछली सरकार जिम्मेदार है। हमारी सहानुभूति हर शिक्षामित्र के साथ है, लेकिन शिक्षा व्यवस्था ठीक से चले, यह सरकार की जिम्मेदारी है।



⚫ देखें आदेश :
सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का हवाला देते हुए समायोजित शिक्षामित्रों को विद्यालय जाने के एवं उपद्रव, तालाबंदी, कार्य बहिष्कार एवं विरोध प्रदर्शन में संलग्न तत्वों की वीडियोग्राफी कराकर कार्यवाही के निर्देश



⚫ तोड़फोड़-तालाबंदी पर शासन गंभीर, होगी वीडियोग्राफी

शिक्षामित्रों के प्रदर्शन और तोड़फोड़ की घटनाओं के बाद अपर मुख्य सचिव राजप्रताप सिंह ने सभी जिलाधिकारियों को पत्र भेजकर ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने घटनाओं की वीडियोग्राफी कराने के लिए भी कहा है। उन्होंने अपने पत्र के साथ सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अंश भी भेजे हैं और कहा है कि कार्य बहिष्कार, तालाबंदी और तोड़फोड़ किसी भी ढंग से उचित नहीं है।


आंदोलन की आग और भड़की, तीसरे दिन भी जिला मुख्यालयों पर अनशन , धरना-प्रदर्शन जारी, स्कूलों में पठन-पाठन प्रभावित : जनपदवार विरोध प्रदर्शन अपडेट Reviewed by Sona Trivedi on 6:58 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.