जिले के अंदर तबादले में 78 हजार आवेदन,  उन शिक्षकों को तबादले का लाभ नहीं मिल सकेगा, जिनके हटने से विद्यालय एकल या फिर बंद हो रहा


 इलाहाबाद : बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों के 78 हजार से अधिक शिक्षकों ने जिले के अंदर तबादले के लिए आवेदन किया है। इनमें इलाहाबाद सबसे आगे है। इसके बाद पूरब का आजमगढ़ और जौनपुर जिला है। बेसिक शिक्षा अधिकारी तबादला आवेदनों पर ऑनलाइन सत्यापन कर रहे हैं। गुरुवार को शाम पांच बजे तक उन्हें अनिवार्य रूप से पूरी रिपोर्ट परिषद मुख्यालय भेजनी है, यहां से अंतिम सूची वेबसाइट पर ही जारी की जाएगी। परिषदीय स्कूलों के शिक्षकों ने जिले के अंदर तबादला पाने के बीते 19 से 28 अगस्त की शाम पांच बजे तक आवेदन किया था। 


 एनआइसी की वेबसाइट पर सारे आवेदन लिए गए, अब एनआइसी ने पूरी रिपोर्ट परिषद को भेजी है। इसमें आवेदकों की संख्या 78 हजार बताई गई है। इनमें सबसे अधिक 3017 आवेदन सिर्फ इलाहाबाद जिले के हैं। इसके बाद आजमगढ़ में 2900, जौनपुर में 2777, गोरखपुर में 1773, फैजाबाद में 1563, बलिया में 1317, कानपुर नगर में 366, वाराणसी में 456 शिक्षकों ने आवेदन किए हैं। इसमें उन शिक्षकों को तबादले का लाभ नहीं मिल सकेगा, जिनके हटने से विद्यालय एकल या फिर बंद हो रहा है। बाकी शिक्षकों को वरीयता अंकों के आधार पर तबादले का लाभ दिया जाएगा।


 बेसिक शिक्षा परिषद सचिव संजय सिन्हा ने बीएसए को सभी आवेदनों का सत्यापन करके 31 अगस्त की शाम तक रिपोर्ट मांगी है। जिन आवेदनों पर बीएसए की संस्तुति होगी उन्हीं शिक्षकों को दूसरे स्कूलों में भेजा जाएगा। यह प्रक्रिया 10 सितंबर तक पूरा होने के आसार हैं, क्योंकि परिषद वेबसाइट पर तबादले की सूची जारी करने के बाद शिक्षकों को कार्यभार ग्रहण करने का मौका मुहैया कराएगा। 


■ कौशांबी में बीएसए की लापरवाही उजागर : कौशांबी जिले में परिषदीय स्कूलों में करीब छह हजार शिक्षक हैं, उनका ऑनलाइन आवेदन नहीं हो सका है, उनमें से 422 ने जिले के अंदर तबादला चाहा है।  इसकी शिकायत होने पर परिषद सचिव ने जांच कराई तो सामने आया कि बीएसए ने शिक्षकों का डाटा ही अपलोड नहीं कराया है। सचिव ने 24 घंटे में शिक्षकों का सारा डाटा अपलोड करने व खामियों को दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं।


जिले के अंदर तबादले में 78 हजार आवेदन,  उन शिक्षकों को तबादले का लाभ नहीं मिल सकेगा, जिनके हटने से विद्यालय एकल या फिर बंद हो रहा Reviewed by Sona Trivedi on 4:48 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.