शिक्षामित्रों से नहीं बनी बात, तेज होगा आंदोलन, शासन का प्रस्ताव खारिज, पुलिस अलर्ट

शिक्षामित्रों से नहीं बनी बात, तेज होगा आंदोलन
लखनऊ : शिक्षामित्रों और शासन के बीच सोमवार को हुई वार्ता विफल हो गई। शिक्षामित्र संगठनों ने सरकार के सभी प्रस्ताव खारिज कर आंदोलन तेज करने का ऐलान किया है। वार्ता विफल होने के बाद एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर आनंद प्रकाश ने सभी कप्तानों को निर्देश दिया है कि शिक्षामित्रों के उग्र प्रदर्शन की आशंका को देखते हुए सतर्कता बरतें। कोई भी कानून-व्यवस्था अपने हाथ में न लेने पाए। 

अपर मुख्य सचिव बेसिक आरपी सिंह ने सोमवार को आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर असोसिएशन, प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ और दूरस्थ बीटीसी वेलफेयर असोसिएशन के पदाधिकारियों संग बैठक की। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के अनुसार आगामी भर्तियों में आयु में छूट व मेरिट में वेटेज दिए जाने का प्रस्ताव रखा। साथ में समायोजित शिक्षामित्रों को 10 हजार रुपये मासिक मानदेय देने की भी बात कही। लेकिन शिक्षामित्रों का कहना था कि उनका काम सहायक अध्यापक के बराबर है, लिहाजा वेतन भी बराबर चाहिए।

शिक्षामित्रों ने कहा
• 11 महीने के बजाय पूरे वर्ष का वेतन दिया जाए 
• 38 हजार रुपये वेतन चाहिए, 10 हजार रुपये का मानेदय पर्याप्त नहीं
• प्रति वर्ष शिक्षण अनुभव के आधार पर चार नहीं 10 अंक का वेटेज दिया जाए
• सभी 1.69 लाख शिक्षामित्रों के मानदेय पर बात हो

सरकार के प्रस्ताव
• समायोजित शिक्षामित्रों को 10 हजार रुपये प्रति माह (11 महीने प्रति वर्ष) का मानदेय
• मूल विद्यालय या समायोजित विद्यालय में कहीं भी रहने का विकल्प
• हर साल शिक्षण अनुभव के आधार पर 4 अंक का वेटेज
• दो साल में TET कर उसमें शामिल होने के लिए उम्र में छूट

रोक दी ट्रेन
बहराइच में शिक्षामित्रों ने सोमवार को जरवलरोड रेलवे स्टेशन पर ट्रेन रोक दी। इससे लखनऊ-गोंडा रूट पर कई ट्रेनें रास्ते में रोकनी पड़ीं। अन्य जिलों में भी प्रदर्शन जारी रहा।


शिक्षामित्रों से नहीं बनी बात, तेज होगा आंदोलन, शासन का प्रस्ताव खारिज, पुलिस अलर्ट Reviewed by Brijesh Shrivastava on 8:26 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.