रिटायरमेंट की उम्र में नौकरी की मांग :  शिक्षक भर्ती प्रक्रिया शुरू करने की मांग, उम्र के पांच दशक पूरे करने के बाद भी सरकारी शिक्षक की नौकरी पाने की आस

इलाहाबाद ; मौजूदा दौर में जबकि सरकार ने 50 साल से अधिक उम्र के कर्मचारियों की छंटनी प्रक्रिया शुरू कर दी है, एक तबका ऐसा भी है जो उम्र के पांच दशक पूरे करने के बाद सरकारी नौकरी पाने की आस लगाए बैठा है। इनमें महिलाएं भी शामिल हैं। 51 साल की शबाना फिरदौस हों, 47 साल पूरे कर चुकीं तस्नीम फातिमा या 45 वर्ष की समरुन निशां। इन सभी महिलाओं ने बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में उर्दू विषय के चार हजार सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए सपा सरकार में आवेदन किया था।




 भाजपा सरकार बनने के बाद 23 मार्च को 12460 शिक्षकों के साथ ही चार हजार उर्दू शिक्षकों की भर्ती भी रोक दी गई थी। उसके बाद से ये महिलाएं अफसरों से लेकर मंत्री और मुख्यमंत्री तक को पत्र भेजकर भर्ती शुरू करने की मांग कर रहीं हैं। लेकिन सुनवाई नहीं हो रही।तीसरी बार शुरू हुई थी उर्दू शिक्षकों की भर्ती : उर्दू के जिन चार हजार सहायक अध्यापकों की भर्ती पर रोक लगी है वह सपा सरकार के कार्यकाल की तीसरी नियुक्ति प्रक्रिया थी। इससे पहले 4280 और 3500 उर्दू शिक्षकों की भर्ती की गई थी।




मोअल्लिम-ए-उर्दू डिग्री को लेकर है विवाद : चार हजार उर्दू शिक्षक भर्ती में जिस मोअल्लिम-ए-उर्दू डिग्री को बीटीसी के समकक्ष मान्य किया गया था उसे लेकर विवाद है। हाईकोर्ट ने 2 मई 2014 को इस मामले की जांच डीएम अलीगढ़ को सौंपी थी। 13 दिसंबर 2016 को सुनवाई के दौरान बताया गया कि जांच पूरी हो चुकी और निर्णय के लिए राज्य सरकार को भेजा गया है। रिटायरमेंट की उम्र तक के अभ्यर्थियों से मांगे थे आवेदन : उर्दू विषय के सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए सरकार ने सेनिवृत्ति की उम्र (62 साल) तक के अभ्यर्थियों से आवेदन मांगे थे। इस भर्ती में 11 अगस्त 1997 से पहले मोअल्लिम-ए-उर्दू की डिग्री हासिल कर चुके अभ्यर्थियों को मौका दिया गया था। इस वजह से अधिक उम्र के अभ्यर्थी भी शामिल कर लिए गए थे।





इलाहाबाद। बेसिक शिक्षा परिषद के 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती में काउंसिलिंग करा चुके अचयनित अभ्यर्थियों ने प्रक्रिया शुरू करने की मांग की है। इन अभ्यर्थियों का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के अंतरिम आदेश पर सामान्य वर्ग में टीईटी के 70 प्रतिशत (105 अंक) और आरक्षित वर्ग के 60 प्रतिशत (90 अंक) पाने वाले अभ्यर्थियों की नियुक्ति हुई थी। इसी आधार पर हो चुकी 66,655 शिक्षकों की भर्ती को सही माना है। बाकी बचे 6170 पदों पर नियमानुसार भर्ती का आदेश सर्वोच्च न्यायालय ने दिया है। लिहाजा 105 व 90 अंक का क्राइटेरिया पूरा करने वाले काउंसिलिंग करा चुके अभ्यर्थियों को मौका दिया जाए।


रिटायरमेंट की उम्र में नौकरी की मांग :  शिक्षक भर्ती प्रक्रिया शुरू करने की मांग, उम्र के पांच दशक पूरे करने के बाद भी सरकारी शिक्षक की नौकरी पाने की आस Reviewed by Sona Trivedi on 7:25 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.