अजब-गजब : सेवानिवृत्त हो चुके खंड शिक्षा अधिकारियों की होगी पदोन्नति, जारी सूची में शामिल आधे से अधिक हो चुके रिटायर

इलाहाबाद : प्रदेश सरकार की मंशा पर शिक्षा महकमे के अफसर ही पानी फेरने पर आमादा हैं। 15 वर्ष के लंबे इंतजार के बाद विभाग खंड शिक्षा अधिकारियों की पदोन्नति करने जा रही है, लेकिन शिक्षा निदेशालय से जारी हुई वरिष्ठता सूची में करीब आधे अफसर पिछले वर्षो में ही सेवानिवृत्त हो चुके हैं। अब विभाग इन्हें किस आधार पर पदोन्नति देने जा रहा है, यह शिक्षा अधिकारी समझ नहीं पा रहे हैं। लंबे समय से प्रमोशन न होने का कारण भी विभागीय अफसरों की व अन्य कई वजहें रही हैं।

■ अफसरों से शिक्षा निदेशालय ने मांगी गोपनीय प्रविष्टियां
■ सूची में शामिल आधे से अधिक खंड शिक्षा अधिकारी हो चुके रिटायर

उप्र अधीनस्थ शैक्षिक राजपत्रित निरीक्षण शाखा के उप बेसिक शिक्षा अधिकारी, प्रति उप विद्यालय निरीक्षक, सहायक बेसिक शिक्षा अधिकारी जिन्हें अब खंड शिक्षा अधिकारी कहा जाता है की पदोन्नति की तैयारी है। शिक्षा निदेशालय की ओर से निर्देश दिया गया है कि वर्ष 2016-17 तक विगत दस वर्ष की गोपनीय चरित्र प्रविष्टियां पूर्ण कराकर भेजी जाए। इसके लिए प्रदेश भर में तैनात 109 अफसरों की सूची भी जारी की गई है, जिनकी पदोन्नति की जानी है।


इस पद के नियमित प्रमोशन वर्ष  2002 और 2012 तक हुए हैं। उसके बाद से पदोन्नतियां रुकी थी। इससे खफा होकर खंड शिक्षा अधिकारी अच्छे लाल गुप्ता व ईश्वर चंद्र चौहान ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया कि अधिकारी रिटायर हो रहे हैं आखिर कब पदोन्नति होगी। कोर्ट के निर्देश पर कुछ पदोन्नतियां हुई, लेकिन अधिकांश को लाभ नहीं मिल सका।


प्रमोशन कोटा पर भी सवाल : खंड शिक्षा अधिकारियों का भले ही लंबे समय बाद प्रमोशन होने जा रहा है, लेकिन इससे वह खुश कम नाखुश ज्यादा है। वजह यह है कि वरिष्ठता सूची के अलावा पहले डिप्टी बीएसए के 179 पदों के लिए 17 प्रतिशत का प्रमोशन कोटा रहा है, अब खंड शिक्षा अधिकारियों के पद बढ़कर 1031 हो गए हैं। ऐसे में प्रमोशन कोटा बढ़ाया नहीं गया है। खंड शिक्षाधिकारियों का कहना है कि अब करीब 55 फीसद कोटा होना चाहिए। इस संबंध में पिछले दिनों शिक्षा निदेशक बेसिक ने पत्र भी लिखा है।


पदोन्नति की वरिष्ठता सूची में पहले नंबर पर दर्ज विकास यदुवंशी को इटावा में विभाग की ओर से बाकायदा नियुक्त दिखाया गया है। यहां हैरत वाली बात यह है कि वह अक्टूबर 2014 में ही रिटायर हो चुकी हैं। विकास यदुवंशी की जन्मतिथि सात अक्टूबर 1954 है।अखिलेश सक्सेना वरिष्ठता सूची में दूसरे नंबर हैं उन्हें जालौन में नियुक्त बताया गया। चौथे नंबर पर पवन कुमार को रायबरेली में और पांचवें नंबर पर प्रभाकर द्विवेदी को बांदा में नियुक्त बताया गया है, ये सभी क्रमश: वह 2015 व 2016 में ही सेवानिवृत्त हो चुके हैं।


 शिक्षा महकमे में उप बेसिक शिक्षा अधिकारियों का पद नाम 14 जुलाई 2011 को बदलकर खंड शिक्षा अधिकारी कर दिया गया। इसके पहले डिप्टी बीएसए, एबीएसए का पद और वरिष्ठता सूची आदि अलग-अलग रही है। शासन ने अब तक इनकी सेवा नियमावली तय नहीं की है। वरिष्ठता सूची, बीएसए की पदोन्नति सूची का प्रकरण न्यायालयों में लंबित है।

अजब-गजब : सेवानिवृत्त हो चुके खंड शिक्षा अधिकारियों की होगी पदोन्नति, जारी सूची में शामिल आधे से अधिक हो चुके रिटायर Reviewed by Praveen Trivedi on 8:51 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.