यूपीटीईटी (UPTET-2017) को लेकर दायर हुई एक और याचिका, परिणाम जारी होने से पहले परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के लिए  मुश्किल हो रहे हालात

 इलाहाबाद : यूपी टीईटी-2017 के परिणाम जारी होने से पहले परीक्षा कराने वाली संस्था के लिए एक और मुश्किल हालात पैदा हो गए हैं। कोर्ट में पहले से लंबित कई याचिकाओं के अलावा एक और याचिका दाखिल हो गई है। यह याचिका पर्यावरण विषय के क्षेत्र में सवाल पूछने के स्थान पर संविधान के प्रश्न पूछे जाने को लेकर दाखिल हुई है। 



प्रभा त्रिपाठी और अन्य ने टीईटी-2017 में पर्यावरण विषय के क्षेत्र में सवाल पूछे जाने की बजाए संविधान के प्रश्न पूछे जाने को हाईकोर्ट में चुनौती दी है। कोर्ट ने इस पर सरकारी वकील से जानकारी मांगी है। याचिका को इस मामले में पूर्व में दाखिल कुर्मेश कुमार व आठ अन्य की याचिका के साथ संबद्ध कर दिया गया है। सुनवाई 14 दिसंबर को होगी। इस मामले की सुनवाई न्यायमूर्ति सुनीत कुमार कर रहे हैं।



 याची के अधिवक्ता एके त्रिपाठी और अनिल बिसेन का कहना था कि पर्यावरण पाठ्यक्रम के तहत पूछे जाने वाले सवालों की जगह संविधान से संबंधित सवाल पूछ लिए गए। जबकि, उस सेशन में सिर्फ पर्यावरण के सवाल होने चाहिए थे। याचीगण ने प्रत्यावेदन दिया था लेकिन उस पर कोई सुनवाई नहीं हुई।


यूपीटीईटी (UPTET-2017) को लेकर दायर हुई एक और याचिका, परिणाम जारी होने से पहले परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के लिए  मुश्किल हो रहे हालात Reviewed by Praveen Trivedi on 5:58 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.