एक अप्रैल तक किताबों का स्कूल पहुंचना मुश्किल, टेंडर जारी, इस बार छापी जाएंगी अंग्रेजी माध्यम के लिए भी किताबें

26 फरवरी को खुलेगा टेंडर,एक हफ्ता प्रकाशकों से करार में लगेगा

सरकारी प्राइमरी स्कूलों में निशुल्क दी जाने वाली पाठ्य पुस्तकें इस महीने के आखिरी तक छपने जाएंगी। बेसिक शिक्षा विभाग ने बुधवार को टेण्डर मांग लिए हैं। प्रकाशकों को 26 फरवरी तक आवेदन करना है। इस शैक्षिक सत्र से अंग्रेजी माध्यम के लिए भी किताबें छापी जाएंगी। नए सत्र की शुरुआत में किताबों का बंट पाना मुश्किल होगा क्योंकि 26 फरवरी को टेंडर खुलने के बाद एक हफ्ते का समय प्रकाशकों के साथ करार में लगेगा। प्रकाशकों को सभी पाठ्यपुस्तकों के लिए तीन महीने व कार्यपुस्तिकाओं के लिए 105 दिन तक का समय आपूर्ति के लिए दिया जाएगा। इस लिहाज से एक अप्रैल यानी सत्र की शुरुआत में नाम के लिए कुछेक स्कूलों में किताबें भले बंट जाएं लेकिन पूरी तरह से किताबें जुलाई-अगस्त तक ही बंट पाएंगी। दिसम्बर में ही विभाग ने पुस्तक नीति का प्रस्ताव शासन को भेज दिया था लेकिन शासन ने जारी करने में काफी देर कर दी। बीते हफ्ते में पुस्तक नीति में संशोधन भी किया गया।

एक अप्रैल तक किताबों का स्कूल पहुंचना मुश्किल, टेंडर जारी, इस बार छापी जाएंगी अंग्रेजी माध्यम के लिए भी किताबें Reviewed by Ram Krishna mishra on 4:47 PM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.