'पुरानी पेंशन लागू करने से बच रही है सरकार', सरकार के साथ कल होनी है आखिरी वार्ता, पुरानी पेंशन पर नहीं बनी बात, हड़ताल का ऐलान


• एनबीटी, लखनऊ

पुरानी पेंशन के लिए आम सहमति बनने के रास्ते बंद होते दिख रहे हैं। इसके लिए बनी कमिटी अभी तक किसी भी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। इस बीच कई कर्मचारी संगठनों ने आठ जनवरी से होने वाली हड़ताल में शामिल होने का ऐलान कर दिया है। हालांकि 27 दिसंबर को कर्मचारी संगठनों की सरकार के साथ आखिरी वार्ता होनी है। 

सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन्स (सीटू) के प्रदेश महामंत्री प्रेमनाथ ने बताया कि उनकी तरफ से सभी संगठनों को पत्र दिया गया है। इसमें आठ और नौ जनवरी को हड़ताल का समर्थन करने की अपील की गई है। इसका एटक, इंटक, एचएमएस, एआईयूटीयूसी, एआईसीसीटीयू, टीयूसीसी और एलपीएफ संगठन ने स्वागत भी 

किया है। 

सुनवाई न हाने पर नहीं होगी कोई वार्ता 

राज्य कर्मचारी महासंघ लल्लन पांडेय गुट ने पहले ही इस हड़ताल में शामिल होने का ऐलान कर चुका है। कर्मचारी संगठनों के साथ इसको लेकर वार्ता भी हो रही है। इसमें राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद, उप्र चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी महासंघ, राज्य कर्मचारी महासंघ जैसे प्रमुख संगठन शामिल हैं। परिषद के अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी का कहना है कि 27 की बैठक में अगर कोई रिजल्ट नहीं आया तो उनकी तरफ से कोई वार्ता नहीं होगी और मुख्यमंत्री के नाम पत्र जारी कर दिया जाएगा। इसमें सभी बैठकों के नतीजे और आंदोलन की जानकारी दी जाएगी। 

'पुरानी पेंशन लागू करने से बच रही है सरकार', सरकार के साथ कल होनी है आखिरी वार्ता, पुरानी पेंशन पर नहीं बनी बात, हड़ताल का ऐलान Reviewed by राम कृष्ण मिश्र (रिक्की) on 7:23 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.