शिक्षामित्रों ने प्रेरणा एप का किया समर्थन, शिक्षकों ने सेल्फी भेजकर उपस्थिति दर्ज कराने से किया इंकार

शिक्षामित्रों ने प्रेरणा एप का समर्थन किया, शिक्षकों ने सेल्फी भेजकर उपस्थिति दर्ज कराने से किया इंकार
13 Sep 2019

प्रेरणा एप को लेकर शिक्षकों का विरोध जारी है। हालांकि इसी बीच शिक्षामित्रों ने राज्य सरकार को राहत दी है। शिक्षामित्रों ने प्रेरणा एप पर उपस्थिति दर्ज कराने की हामी भरी है।अभी तक एप को एक लाख शिक्षकों-शिक्षामित्रों ने ही डाउनलोड किया है।


शिक्षकों ने सेल्फी भेजकर उपस्थिति दर्ज कराने से किया इंकार

एक ओर जहां शिक्षकों ने शुक्रवार को जिलाधिकारी कार्यालय पर धरने का ऐलान किया है। वहीं दूसरी ओर शिक्षामित्रों ने सरकार को आश्वस्त किया है कि शिक्षकों के तालाबंदी या विरोध के कारण स्कूल बंद नहीं होंगे।


शिक्षामित्रों ने निदेशक से की मुलाकात: वहीं शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष जितेन्द्र शाही ने सर्व शिक्षा अभियान के राज्य परियोजना निदेशक विजय किरण आनंद से मुलाकात कर पूरा समर्थन देने का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा है कि शिक्षामित्रों स्कूलों का संचालन करेंगे और प्रेरणा एप से उपस्थिति भी दर्ज कराएंगे। शिक्षामित्रों के चलते कोई भी स्कूल बंद नहीं होगा। वहां मिड-डे मील भी बनेगा और पढ़ाई भी होगी।



प्रेरणा एप एक लाख शिक्षकों ने किया डाउनलोड, 1-5 की रेटिंग: गूगल प्ले पर मौजूद इस एप को अभी तक लगभग एक लाख शिक्षकों-शिक्षामित्रों ने ही डाउनलोड किया है। जबकि बेसिक शिक्षा विभाग बराबर यह तर्क दे रहा है कि इस एप के जरिये 5.5 लाख शिक्षकों, अनुदेशकों और शिक्षामित्रों की हाजिरी हो सकेगी। इसके जरिये ही शिक्षकों व अन्य को कई तरह की सुविधाएं मिलेंगी और भ्रष्टाचार से निजात मिलेगी लेकिन एप डाउनलोड करने वालों की संख्या अभी कम है। वहीं इसकी समीक्षा (रिव्यू) भी निराश करने वाली है। इस एप को लगभग 4300 लोगों ने 1.5 की रेटिंग दी है और कहा है कि इस एप के जरिये हाजिरी भेजने में दिक्कत आ रही है। कई बार फोन हैंग हो रहा है और एप ठीक से काम नहीं कर रहा। वहीं थर्ड पार्टी से एप बनवाने की वजह से डाटा चोरी की आशंका भी जताई जा रही है।

शिक्षक दिवस पर सरकार ने जारी किया था एप, अभी तक इसको एक लाख लोगों ने डाउनलोड किया है।



शिक्षामित्रों ने प्रेरणा एप का किया समर्थन, शिक्षकों ने सेल्फी भेजकर उपस्थिति दर्ज कराने से किया इंकार Reviewed by प्राइमरी का मास्टर on 4:51 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.