सीएम योगी ने 49 बेसिक शिक्षकों को किया सम्मानित, ट्रेड यूनियन वाले न होने की सीख देते हुए सड़कों पर नहीं आने का किया आह्वान



शिक्षक ट्रेड यूनियन के सदस्य नहीं : योगी

बेहतर शिक्षक साबित हो सकती हैं महिलाएं, बशर्ते नियमित स्कूल जाएं : सीएम योगी 


05 Sep 2019

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर महिला शिक्षकों का आह्वान किया कि अगले राज्य पुरस्कारों में उनकी संख्या ज्यादा होनी चाहिए। उन्होंने शिक्षकों को सीख दी कि वे ट्रेड यूनियन वाले नहीं है, इसलिए सड़कों पर न आएं।











प्रेरणा एप शुरू: शिक्षक सम्मान कार्यक्रम में सीएम ने प्रेरणा एप को भी पूरे प्रदेश में लागू किया। वे गुरु की भूमिका में दिखे। शिक्षकों से कहा, पिछले हफ्ते मेधावी बच्चों को सम्मानित किया तो उनमें लड़कियां ज्यादा थीं लेकिन राज्य अध्यापक पुस्कार में 49 में से 29 पुरुष व 20 महिला शिक्षिकाएं हैं। अगले वर्ष महिला शिक्षक ज्यादा होनी चाहिए। उन्होंने इशारों में महिला शिक्षिकाओं के स्कूल न जाने पर तंज भी कसा।


मुख्यमंत्री शिक्षक सम्मान समारोह में गुरु की भूमिका में नजर आए, 49 शिक्षक राज्य अध्यापक पुरस्कार से सम्मानित

स्कूलों में जनसहयोग से सुविधाएं बढ़ाएं: योगी


प्रेरणा एप लांच

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शिक्षकों से कहा है कि जब हमने ऑपरेशन कायाकल्प शुरू किया तो इसके लिए अलग से बजट नहीं रखा बल्कि जनप्रतिनिधियों, अफसरों और आसपास के सहयोग से इसे चलाया। आप भी ऐसा करें।


मुख्यमंत्री बुधवार को इंदिरागंाधी प्रतिष्ठान में आयोजित शिक्षक सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मैंने अपनी पहली सांसद निधि से गोरखपुर में स्कूलों को फर्नीचर दिया था। कोई भी जनप्रतिनिधि एक सोलर पैनल, स्मार्ट क्लास या कम्प्यूटर के लिए मना नहीं करेंगे। अपने स्कूल को ऐसा बनाइए कि गांव का गौरव बढ़े। स्कूल एक घंटा पहले जाइए और ग्राम प्रधान व अन्य लोगों के साथ रणनीति बनाइए।


जनगणना से मुंह क्यों मोड़ना: उन्होंने भावुक होकर कहा कि आज जब शिक्षक कहता है कि उसे जनगणना से अलग किया जाए तो दुख होता है। आपसे बेहतर इसे कोई नहीं कर सकता। आप घर-घर जकर संपर्क करेंगे तो शासन की योजनाओं की जानकारी दे सकते हैं, आवास, राशन, स्कॉलरशिप समेत कई चीजों की जानकारी देंगे तो आपका सम्मान बढेगा क्योंकि आप उसकी मदद कर रहे हैं। आप भारत के गुरुकुल की परम्परा आगे बढ़ाएंगे।


केवल बीटीसी-टीईटी की जिंदगी नहीं: मुख्यमंत्री ने अपना उदाहरण देकर समझाया कि अगर बीटीसी-टीईटी करके शिक्षक बन गए तो यही जिंदगी का लक्ष्य नहीं है। जब मैं मुख्यमंत्री बना तो प्रधानमंत्री व राष्ट्रीय अध्यक्ष से जाकर पूछा कि मुझे सरकार चलाने का अनुभव नहीं है तो जो-जो उन्होंने बताया उसे नोट किया। फिर लखनऊ आकर अफसरों से मिला और समझा कि शासन का काम कैसे होता है।


अगले वर्ष राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए शिक्षकों को खुद आवेदन करने का मौका भी दिया जाएगा। इसकी व्यवस्था की जाएगी। वहीं हम इस प्रक्रिया को समयबद्ध करेंगे।  - सतीश द्विवेदी, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), बेसिक शिक्षा


अफसरों की तारीफ की  :  विशेष सचिव व मिड डे मील के निदेशक विजय किरण आनंद की तारीफ करते हुए कहा कि वे हमारे ऐसे अफसर हैं जो रात 12 बजे भी ड्यूटी भी रहते हैं और सुबह 4 बजे भी। कुम्भ के सफल आयोजन के बाद जब हमने उन्हें मुंहमांगी पोस्टिंग देनी चाही तो उन्होंने बेसिक शिक्षा को चुना। वहीं बेसिक शिक्षा निदेशक सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह को भी माध्यमिक वाले मांगते हैं लेकिन मैं इन्हें बेसिक शिक्षा में ही रखना चाहता हूं।




















सीएम योगी ने 49 बेसिक शिक्षकों को किया सम्मानित, ट्रेड यूनियन वाले न होने की सीख देते हुए सड़कों पर नहीं आने का किया आह्वान Reviewed by प्राइमरी का मास्टर on 6:01 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.