बीएसए नहीं मान रहे अफसरों के निर्देश, शासन की सख्त कार्रवाई भी बेअसर, खण्ड शिक्षाधिकारियों की पैरवी में हो रही लेटलतीफी


 इलाहाबाद : बेसिक शिक्षा अधिकारियों की गड़बड़ी पर शासन सख्त कार्रवाई कर रहा है, उसके बाद भी बीएसए अफसरों के निर्देशों की लगातार अनदेखी कर रहे हैं। हालत यह है कि वह विभागीय सूचनाएं देने तक में टालमटोल कर रहे हैं। प्रदेश भर के विकासखंडों में तैनात खंड शिक्षा अधिकारियों की सेवा विवर्णिका शिक्षा निदेशालय को अधिकांश जिलों से नहीं मिल सकी है। इससे उनके तबादलों में देरी होना तय है।




शासन ने अफसरों की वार्षिक स्थानांतरण नीति घोषित कर दी है। इसी नीति के तहत वर्षो से एक ही मंडल व जिलों में तैनात खंड शिक्षा अधिकारियों का तबादला होना है। अपर शिक्षा निदेशक बेसिक कीर्ति गौतम ने 10 अप्रैल को इस संबंध में सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिया था कि उनके जिले में तैनात अफसरों की सेवा विवर्णिका 20 अप्रैल तक निदेशालय भेज दी जाए। लखनऊ मंडल के लखीमपुर खीरी, कानपुर के फरुखाबाद, इटावा, कन्नौज, मेरठ मंडल के मुख्यालय, मुरादाबाद मंडल के रामपुर, फैजाबाद मंडल के सुलतानपुर, अलीगढ़ व वाराणसी मंडल मुख्यालय, चित्रकूट धाम मंडल के बांदा और इलाहाबाद मंडल के फतेहपुर के बीएसए ने ही आदेश का अनुपालन किया है।




 वहीं, झांसी, बरेली, मिर्जापुर, आगरा, देवीपाटन, आजमगढ़, बस्ती, गोरखपुर व सहारनपुर मंडल के एक भी जिले ने सूचना नहीं दी है।  अपर शिक्षा निदेशक गौतम ने सभी बीएसए को कड़ा पत्र जारी किया है, जिसमें लिखा है कि प्रदेश के अधिकांश जिलों ने आदेश का अनुपालन नहीं किया है। अब वह ई-मेल पर जल्द सभी खंड शिक्षा अधिकारियों का सेवा विवरण व मूल अभिलेख भेजे। सभी जिलों से रिपोर्ट आने के बाद अफसरों के तबादले दूसरे मंडलों में होंगे। तमाम खंड शिक्षा अधिकारी भी तैनाती वाले जिले से हटना नहीं चाहते हैं, उनकी पैरवी पर बीएसए सूचनाएं देने में देरी कर रहे हैं।


बीएसए नहीं मान रहे अफसरों के निर्देश, शासन की सख्त कार्रवाई भी बेअसर, खण्ड शिक्षाधिकारियों की पैरवी में हो रही लेटलतीफी Reviewed by प्राइमरी का मास्टर on 7:52 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.