मदरसों में वाद्य यंत्र के साथ राष्ट्रगान गाना नाजायज : दारुल उलूम, फतवा जारी कर बच्चों को टाई पहनने से भी किया मना

 मुसलमानों के सबसे बड़े शिक्षण संस्थान मदरसा दारुल उलूम देवबंद ने फतवा जारी कर मदरसों में वाद्य यंत्रों के साथ राष्ट्रगान गाने को नाजायज बताया है। साथ ही मदरसों के छात्रों के टाई पहनने को भी गलत बताया है।
 मुरादनगर के दारुल उलूम सादिया नामक मदरसे में अरबी, उर्दू, हदीस के साथ ही कक्षा पांच तक की हंिदूी माध्यम में तालीम दी जाती है। मदरसे में छात्रों के लिए कुर्ता-पायजामा के स्थान पर पैंट-शर्ट के रूप में सफेद रंग की ड्रेस निर्धारित की गई है। बच्चे पैंट-शर्ट पहनकर आते हैं, मगर टाई लगाने पर पाबंदी है।
 मदरसे में आधुनिक शिक्षा प्रणाली के तहत छात्र-छात्रएं एक साथ शिक्षा प्राप्त करते हैं। मदरसे के प्रधानाचार्य फैजान अली ने आगामी गणतंत्र दिवस पर बैंड व ड्रम की धुन के साथ राष्ट्रगान का आयोजन करने के लिए मदरसा दारुल उलूम देवबंद से सवाल किया था। }इसके अलावा उन्होंने मदरसे के छात्रों के टाई पहनने को लेकर भी सवाल किया था।
 इस संबंध में दारुल उलूम देवबंद ने फतवा जारी कर मदरसों में वाद्य यंत्रों के साथ राष्ट्रगान गाने को नाजायज बताया है। दारुल उलूम ने फतवे में मदरसे के छात्रों को टाई लगाने से बचने की हिदायत दी है।
मदरसों में वाद्य यंत्र के साथ राष्ट्रगान गाना नाजायज : दारुल उलूम, फतवा जारी कर बच्चों को टाई पहनने से भी किया मना Reviewed by राम कृष्ण मिश्र (रिक्की) on 10:00 AM Rating: 5

No comments:

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.