बीएड में 15 हजार छात्रों की काउंसिलिंग फंसी, स्नातक में 50 प्रतिशत व अधिक अंक पाने के बावजूद परास्नातक अंतिम वर्ष की डिटेल भरना पड़ा भारी

लखनऊ : बीएड की संयुक्त प्रवेश परीक्षा की काउंसिलिंग के पहले ही दिन देने वाले करीब 15 हजार अभ्यर्थी फंस गए। स्नातक में 50 प्रतिशत व अधिक अंक पाने वाले अभ्यर्थियों ने खुद को परास्नातक अंतिम वर्ष का स्टूडेंट बताकर ब्योरा भर दिया, जबकि गाइड लाइन के अनुसार ऐसे अभ्यर्थी जिनके स्नातक में 50 प्रतिशत व अधिक अंक हैं उन्हें परास्नातक की ब्योरा नहीं भरना था। वह ऐसे ही अर्ह हैं। डिटेल उन्हें भरनी थी जिनके स्नातक में 50 प्रतिशत से कम अंक हैं तब ऐसे अभ्यर्थी को परास्नातक में 50 प्रतिशत अंक पाना अनिवार्य है तभी वह बीएड कर सकता है। फिलहाल परास्नातक अंतिम वर्ष की मार्कशीट न होने के कारण ऐसे तमाम अभ्यर्थियों का पहले ही दिन रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ।

■ स्नातक में 50 प्रतिशत व अधिक अंक पाने के बावजूद परास्नातक अंतिम वर्ष की डिटेल भरना पड़ा भारी

■ काउंसिलिंग के पहले दिन ही तमाम अभ्यर्थियों का नहीं हो पाया रजिस्ट्रेशन, अब लविवि दूर कर रहा त्रुटि

■ 2.10 लाख अभ्यर्थियों में से केवल 15 हजार अभ्यर्थी ऐसे निकले जिन्होंने यह गलती की है




प्रवेश परीक्षा के समन्वयक प्रो. एनके खरे ने बताया कि रजिस्ट्रेशन के पहले ही दिन कई अभ्यर्थियों ने इस बारे में जानकारी ली तो पूरा रिकॉर्ड खंगाला गया। बीएड प्रवेश काउंसिलिंग के लिए अर्ह हुए करीब 2.10 लाख अभ्यर्थियों में से 15 हजार अभ्यर्थी ऐसे निकले जिन्होंने यह गलती की है। फिलहाल प्रथम चरण की काउंसिलिंग के लिए आमंत्रित किए अभ्यर्थियों में से ऐसे अभ्यर्थियों का रजिस्ट्रेशन अब शनिवार से शुरू हो पाएगा।



अब सभी का ब्योरा दुरुस्त किया जा रहा है। पहले चरण की काउंसिलिंग शुरू हो गई है। पहले दिन करीब साढ़े छह हजार अभ्यर्थियों ने अपना रजिस्ट्रेशन करवाया।

बीएड में 15 हजार छात्रों की काउंसिलिंग फंसी, स्नातक में 50 प्रतिशत व अधिक अंक पाने के बावजूद परास्नातक अंतिम वर्ष की डिटेल भरना पड़ा भारी Reviewed by प्राइमरी का मास्टर on 9:06 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.