दायित्व संभालते ही अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा ने अफसरों को सुनाई खरी-खरी, कहा : ठीक से नौकरी करो या दे दो इस्तीफा, स्कूलों में टीचर की उपस्थिति और मिड डे मील की स्थिति का भी लेंगे जायजा, एससीईआरटी निदेशक से पूछा : हमारे स्कूल निजी से बेहतर क्यों नहीं ?

लगभग तीन घंटे चली बैठक में डॉ. प्रभात कुमार ने एससीईआरटी के निदेशक संजय सिन्हा से पूछा कि सरकारी प्राइमरी स्कूल, निजी से बेहतर क्यों नहीं है? हमारे टीचर, निजी स्कूलों के टीचर जैसे स्मार्ट क्यों नहीं दिखते? इस संबंध में फील्ड के अफसरों से बात कर 15 दिन में रिपोर्ट दें कि क्या किया जाए कि हमारे स्कूलों का स्तर बेहतर हो। डॉ. कुमार ने कहा कि हम क्यों नहीं आह्वान करते कि सक्षम व्यक्ति अपने बच्चों की ड्रेस खुद खरीदें। मदद के लिए विभिन्न संस्थाएं आगे आएं। एक सवाल पर डॉ. कुमार ने बताया कि वह फील्ड में भी निकलेंगे। औचक निरीक्षण कर विभिन्न योजनाओं का स्थलीय निरीक्षण, स्कूलों में टीचर की उपस्थिति और मिड डे मील की स्थिति का भी जायजा लेंगे।

तेज-तर्रार वरिष्ठ आइएएस अफसर डॉ. प्रभात कुमार ने गुरुवार को कृषि उत्पादन आयुक्त (एपीसी) सहित बेसिक शिक्षा के अपर मुख्य सचिव पद का दायित्व संभालते ही विभागीय अफसरों से दो टूक कहा कि या तो वे अब ठीक से नौकरी करें या फिर इस्तीफा दे दें। निचले स्तर तक काम में किसी तरह की हीला-हवाली और गड़बड़ी को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। दोषियों के खिलाफ निलंबन, बर्खास्तगी ही नहीं बल्कि गंभीर मामलों में जेल भेजने जैसी कड़ी कार्रवाई भी की जाएगी।

मेरठ के मंडलायुक्त पद से पिछले दिनों स्थानांतरित 1985 बैच के आइएएस डॉ. कुमार ने गुरुवार को सुबह कार्यभार संभालने के बाद संबंधित विभागीय अफसरों के साथ बैठक की। भ्रष्टाचारियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाने वाले डॉ. कुमार ने दोपहर बाद बेसिक शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अफसरों की क्लास लगाई। उन्होंने सभी से स्पष्ट तौर पर कहा कि वे बिना किसी दबाव में आए ईमानदारी व पूरी निष्ठा के साथ नियमानुसार काम करें। अपने व्यक्तित्व को सुधारने की अफसरों को नसीहत देने के साथ ही कहा कि अगर वे ठीक से नौकरी नहीं कर सकते हैं तो इस्तीफा दे दें। खरी-खरी सुनाते हुए डॉ. कुमार ने कहा कि काम में किसी तरह की हीला-हवाली, गड़बड़ी व भ्रष्टाचार पर वह किसी को भी छोड़ने वाले नहीं है। ऐसे अफसरों-कर्मचारियों को सिर्फ नौकरी से ही हाथ धोना नहीं पड़ेगा बल्कि उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराकर जेल भी भेजा जाएगा। डॉ. कुमार ने विभाग के सभी वरिष्ठ अफसरों से कहा कि वह फील्ड में निचले स्तर तक के स्टाफ को भी इससे अवगत करा दें। उन्होंने कहा कि शिक्षकों के देय व प्रमोशन समय से किए जाएं।

पंचायतीराज व ग्राम्य विकास की आज करेंगे समीक्षा देर शाम तक विभागीय अफसरों की बैठक करने के बाद डॉ. कुमार ने बताया कि उन्होंने शुक्रवार को पंचायतीराज और ग्राम्य विकास विभाग की समीक्षा बैठक रखी है। बैठक सचिवालय के अपने कक्ष में करने के बजाय वह विभागीय निदेशालयों में जाकर करेंगे। विभागीय कार्यकलापों की समीक्षा के साथ वह निदेशालयों का निरीक्षण भी करेंगे।सचिवालय में कार्यभार ग्रहण करते कृषि उत्पादन आयुक्त व अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा डॉ. प्रभात कुमार’जागरण

दायित्व संभालते ही अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा ने अफसरों को सुनाई खरी-खरी, कहा : ठीक से नौकरी करो या दे दो इस्तीफा, स्कूलों में टीचर की उपस्थिति और मिड डे मील की स्थिति का भी लेंगे जायजा, एससीईआरटी निदेशक से पूछा : हमारे स्कूल निजी से बेहतर क्यों नहीं ? Reviewed by 📌 वाले प्राइमरी का मास्टर on 6:03 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.