सवा लाख शिक्षामित्रों को ढाई साल में नौकरी नहीं, मौका हाथ से फिसला, सुप्रीम कोर्ट ने जुलाई 2017 को दिया था अगली दो भर्तियों में वेटेज का आदेश

सवा लाख शिक्षामित्रों को ढाई साल में नौकरी नहीं, मौका हाथ से फिसला,  सुप्रीम कोर्ट ने जुलाई 2017 को दिया था अगली दो भर्तियों में वेटेज का आदेश


बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में पढ़ा रहे शिक्षामित्रों के हाथ से नौकरी के दो अवसर निकलने के बावजूद 1.30 लाख शिक्षामित्र सवा दो साल से ठोकरें खा रहे हैं। 10 हजार रुपये प्रतिमाह पर किसी तरह गुजारा कर रहे शिक्षामित्रों के लिए एक-एक दिन काटना मुश्किल हो रहा है। दो अवसर पूरे होने के कारण 22 दिसंबर को प्रस्तावित टीईटी के लिए जो ऑनलाइन आवेदन लिए गए उसमें शिक्षामित्रों से अलग से कोई सूचना नहीं ली गई है।
इससे पहले 2017 व 2018 की टीईटी में शिक्षामित्रों से अलग से सूचना ली गई थी क्योंकि उसी के आधार पर उन्हें भर्ती में वेटेज दिया जाना था। 25 जुलाई 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने बगैर टीईटी सहायक अध्यापक पद पर 1,37,517 शिक्षामित्रों का समायोजन निरस्त करते हुए प्रदेश सरकार को आदेश दिया था कि दो भर्तियों में इन्हें अनुभव का लाभ देकर अवसर दिया जाए। उसके छह महीने बाद 17 जनवरी 2018 को सरकार ने 68500 शिक्षकों की भर्ती के लिए पहली बार सहायक अध्यापक की लिखित परीक्षा का आदेश जारी किया। 

27 मई को आयोजित लिखित परीक्षा में तकरीबन 7200 शिक्षामित्र पास हुए थे। जिन्हें 68500 सहायक अध्यापक भर्ती में मौका मिला। उसके बाद 6 जनवरी 2019 को 69000 शिक्षक भर्ती के लिए परीक्षा कराई गई लेकिन कटऑफ अंक को लेकर विवाद हो गया और परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय 11 महीने में अंतिम उत्तरकुंजी जारी नहीं कर सका है। इस तरह से शिक्षामित्रों के हाथों से दो मौके तो चले गए लेकिन नौकरी तकरीबन सात हजार शिक्षामित्रों को ही मिल सकी है। बचे हुए 1.30 लाख शिक्षामित्र पक्की नौकरी की आस में दिन काट रहे हैं।



सवा लाख शिक्षामित्रों को ढाई साल में नौकरी नहीं, मौका हाथ से फिसला, सुप्रीम कोर्ट ने जुलाई 2017 को दिया था अगली दो भर्तियों में वेटेज का आदेश Reviewed by प्राइमरी का मास्टर on 7:02 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.