फर्जी शिक्षक मामले में जारी नहीं हो पाई एक भी आरसी



फर्जी शिक्षकों के मामले में शुक्रवार तक न तो आरसी जारी हुई और न ही कोई सूचना निदेशालय पहुंची क्योंकि इसमें वित्त व लेखाधिकारी दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं। बर्खास्त शिक्षकों से वेतन वसूली के लिए धनराशि का आकलन वित्त व लेखाधिकारी को करना है। लिहाजा अब निदेशालय से सभी वित्त व लेखाधिकारियों को वसूले जाने वाले वेतन का आगणन करने के निर्देश दिए गए हैं। इस मामले में सभी बीएसए को 3 जुलाई तक आरसी जारी करके रिपोर्ट निदेशालय भेजनी थी। बेसिक शिक्षा विभाग की अपरमुख्य चुका है। लेकिन इनमें से केवल 4 के सचिव रेणुका कुमार 29 जून से इस खिलाफ वेतन रिकवरी के आदेश हुए हैं।

मामले की समीक्षा कर रही हैं लेकिन अपर मुख्य सचिव को वीडियो कांफ्रेसिंग में ज्यादातर बीएसए ने जानकारी दी कि वित्त व लेखाधिकारी इसमें अपेक्षित सहयोग नहीं कर रहे हैं। सकारण वेतन वसूली में देरी हो रही है। शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेसिंग के बाद निदेशक सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह ने सभी वित्त व लेखाधिकारियों को अविलम्ब वसूले जाने वाले वेतन का आकलन कर बीएसए को सौंपने के निर्देश दिए गए हैं। फर्जी डिग्री के सहारे शिक्षक बनने वाले 1427 की पहचान हो चुकी है। इसमें से 930 को बर्खास्त किया
फर्जी शिक्षक मामले में जारी नहीं हो पाई एक भी आरसी Reviewed by राम कृष्ण मिश्र (रिक्की) on 10:30 AM Rating: 5

No comments:

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.