16 हजार शिक्षक भर्ती में गड़बड़ी की आशंका : बीएसए ही जता रहे फर्जीवाड़े का शक, गृह जिले के कटऑफ में आने के बावजूद दूसरे जिले को वरीयता देने औचित्य समझ से परे

 इलाहाबाद : बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक विद्यालयों में 16448 सहायक अध्यापकों की भर्ती में फर्जीवाड़ा हुआ है। यह आशंका कोई और नहीं बेसिक शिक्षा अधिकारी ही जता रहे हैं। दरअसल, भर्ती के अनेक दावेदारों का नाम गृह जिले के कटऑफ में आने के बावजूद उन्होंने काउंसिलिंग दूसरे जिलों में जाकर कराई है। सवाल उठ रहा है कि आखिर यह नौबत क्यों आई? अपने जिले में ही काउंसिलिंग कराने से उन्हें किसने रोका था। दूसरे जिले को वरीयता देने का कारण अभिलेखों में गड़बड़ी तो नहीं है? 



परिषदीय विद्यालयों में इधर बड़ी संख्या में नई नियुक्तियां हुई हैं। उनमें से लगभग सभी शिक्षकों के दो प्रमाणपत्र जांच करके वेतन भुगतान भी शुरू हो गया है। शिक्षकों के सभी प्रमाणपत्रों की जांच अब तक लंबित है, हालांकि इस संबंध में कई बार निर्देश जारी हुए हैं। अब तक हरदोई जिले में बड़ी संख्या में फर्जी शिक्षक पकड़े गए हैं। उन्हें न केवल सेवा से बर्खास्त किया गया, बल्कि एफआइआर भी दर्ज कराई गई है। अब हरदोई के बीएसए मसीहुज्जमा सिद्दीकी ने ही 16 हजार शिक्षक भर्ती पर सवाल खड़े किए हैं। इससे फर्जीवाड़े की आशंका को बल मिल रहा है।

16 हजार शिक्षक भर्ती में गड़बड़ी की आशंका : बीएसए ही जता रहे फर्जीवाड़े का शक, गृह जिले के कटऑफ में आने के बावजूद दूसरे जिले को वरीयता देने औचित्य समझ से परे Reviewed by Praveen Trivedi on 7:55 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.