फेल अभ्यर्थियों को पास करा रहे डायट प्राचार्य, लगातार फेल अभ्यर्थियों के आंतरिक मूल्यांकन के अंक बढ़ाकर भेज रहे, पहली बार बीटीसी प्रशिक्षण में फेल होने वाले अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण कराने का सनसनीखेज प्रकरण

इलाहाबाद : प्रदेश में शिक्षक तैयार करने वाले प्रशिक्षण संस्थान बीटीसी में फेल अभ्यर्थियों को पास कराने में जुटे हैं। जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान यानी डायट के प्राचार्य लगातार फेल अभ्यर्थियों के आंतरिक मूल्यांकन के अंक बढ़ाकर भेज रहे हैं, ताकि वे उत्तीर्ण हो सकें।

जिलों से ऐसे पत्रों की भरमार होने पर परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव ने इस रवैये पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा है कि यह तो परीक्षा के साथ मजाक है। डायट प्राचार्यो पर बीटीसी में प्रवेश के समय कालेज आवंटन आदि में हेराफेरी के आरोप लगते रहे हैं, लेकिन पहली बार बीटीसी प्रशिक्षण में फेल होने वाले अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण कराने का सनसनीखेज प्रकरण सामने आया है।

यह खुलासा किसी अभ्यर्थी या फिर शिक्षक ने नहीं किया है, बल्कि परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव नीना श्रीवास्तव ने खुद हेराफेरी पकड़ी है। उन्होंने डायट प्राचार्यो को इस संबंध में भेजे पत्र में लिखा है कि बीटीसी 2013 के प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षाएं इसी साल कराई गई हैं और बीते पांच अक्टूबर को उसका रिजल्ट भी जारी हुआ है। इसमें बड़ी संख्या में अभ्यर्थी फेल हुए हैं। अब डायट प्राचार्य प्रशिक्षुओं के आंतरिक मूल्यांकन अंक में सुधार कर रहे हैं। सचिव ने लिखा है कि परिणाम जारी होने से पहले प्रशिक्षुओं के आंतरिक मूल्यांकन अंक कम दिए गए थे। इससे वह फेल हो गए।  प्राचार्य अब फिर परीक्षा नियामक को आंतरिक मूल्यांकन अंक बढ़ाकर भेज रहे हैं।

फेल अभ्यर्थियों को पास करा रहे डायट प्राचार्य, लगातार फेल अभ्यर्थियों के आंतरिक मूल्यांकन के अंक बढ़ाकर भेज रहे, पहली बार बीटीसी प्रशिक्षण में फेल होने वाले अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण कराने का सनसनीखेज प्रकरण Reviewed by Sona Trivedi on 5:33 AM Rating: 5

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.