मिड डे मील : पहले खाएंगे मास्टरजी फिर विद्यार्थी


 लखनऊ : बिहार के छपरा जिले में हुए दर्दनाक मिड डे मील हादसे के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने सजग होते हुए यह निर्णय किया है कि सभी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में इस योजना के तहत बनने वाले भोजन को पहले अध्यापक और रसोइया खाएंगे और इसके 15 मिनट बाद खाना विद्यार्थियों को परोसा जाएगा।1प्रदेश के प्राथमिक शिक्षा मंत्री राम गोविन्द चौधरी के निर्देश पर आदेश जारी किया गया। इस बाबत बात करने पर मिड डे मील अथारिटी की निदेशक अमृता सोनी ने कहा कि ताजे आदेश में यह व्यवस्था भी की गयी है कि सेण्ट्रलाइज्ड किचन से अब फूड सेफ्टी इंस्पेक्टर समय-समय पर नमूने एकत्र करते रहेंगे ताकि खाने की गुणवत्ता पर नजर रखी जा सके और मानकों पर खरा न उतरने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा सके। सेण्ट्रलाइज्ड किचन की श्रेणी में वे किचन आते हैं जहां कई विद्यालयों के लिए खाना एक जगह बनता है अथवा ऐसे स्थान जहां से बनकर आता है। शहरों में तमाम एनजीओ सेण्ट्रलाइज्ड किचन संचालित करते हैं। एक सवाल के जवाब में अमृता सोनी ने कहा कि सरकारी आदेश का आशय मिड डे मील से जुड़े सभी लोगों को यह बताना है कि उन्हें किस तरह से अपना काम करना है कि ताकि योजना का लाभ विद्यार्थियों को मिल सके।जागरण ब्यूरो, लखनऊ : बिहार के छपरा जिले में हुए दर्दनाक मिड डे मील हादसे के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने सजग होते हुए यह निर्णय किया है कि सभी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में इस योजना के तहत बनने वाले भोजन को पहले अध्यापक और रसोइया खाएंगे और इसके 15 मिनट बाद खाना विद्यार्थियों को परोसा जाएगा।1प्रदेश के प्राथमिक शिक्षा मंत्री राम गोविन्द चौधरी के निर्देश पर आदेश जारी किया गया। इस बाबत बात करने पर मिड डे मील अथारिटी की निदेशक अमृता सोनी ने कहा कि ताजे आदेश में यह व्यवस्था भी की गयी है कि सेण्ट्रलाइज्ड किचन से अब फूड सेफ्टी इंस्पेक्टर समय-समय पर नमूने एकत्र करते रहेंगे ताकि खाने की गुणवत्ता पर नजर रखी जा सके और मानकों पर खरा न उतरने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा सके। सेण्ट्रलाइज्ड किचन की श्रेणी में वे किचन आते हैं जहां कई विद्यालयों के लिए खाना एक जगह बनता है अथवा ऐसे स्थान जहां से बनकर आता है। शहरों में तमाम एनजीओ सेण्ट्रलाइज्ड किचन संचालित करते हैं। एक सवाल के जवाब में अमृता सोनी ने कहा कि सरकारी आदेश का आशय मिड डे मील से जुड़े सभी लोगों को यह बताना है कि उन्हें किस तरह से अपना काम करना है कि ताकि योजना का लाभ विद्यार्थियों को मिल सके। (साभार-:-दैनिक जागरण)

मिड डे मील : पहले खाएंगे मास्टरजी फिर विद्यार्थी Reviewed by BRIJESH SHRIVASTAVA on 3:36 PM Rating: 5

5 comments:

Anonymous said...

Phir to adhikter schools main mastro ji kami ho jayegi

Anonymous said...

zahar ka test kutto aur billiyo par kiya jata hai, adhyapko par nahi.

Unknown said...

ye mid day meal band hona chahiye

Unknown said...

sir g transfer ki 2nd list kb tk aayegi or kya transfer pr stay ho rha h krapya bataye

Anonymous said...

masterji ydi mdm apne samne baith kar banwayege to khane me koi problem nahi hai fir master ko padane ke liye mat kahana

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.