बीएसए की मनमानी पर नकेल : एडी बेसिक से लेनी होगी शिक्षक तबादला संशोधन की अनुमति

  • राज्य सरकार की जारी नीति से बेसिक शिक्षकों की पदोन्नति और तबादला हर साल मई व जून में होता है |
लखनऊ। बेसिक शिक्षा अधिकारी अब मनमाने तरीके से शिक्षकों के तबादला संबंधी आदेश में संशोधन नहीं कर सकेंगे। तबादला संशोधन की अनुमति अब उन्हें एडी बेसिक से लेनी होगी। राज्य सरकार ने पहली बार तबादला व्यवस्था में एडी बेसिक को शामिल करते हुए महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी है। हालांकि, बीएसए इसे हजम नहीं कर पा रहे हैं।
बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों की पदोन्नति और तबादला हर साल मई व जून में होता है। राज्य सरकार इसके लिए नीति जारी करती है।
तबादला प्रक्रिया में अभी तक एडी बेसिक को शामिल नहीं किया जाता था। बीएसए पदोन्नति और तबादला करने के बाद मुख्य विकास अधिकारी से इसकी संस्तुति कराते हुए जारी करते थे। इसके चलते एडी बेसिक चाहकर भी कुछ नहीं कर पाते थे। एडी बेसिक हालांकि बीएसए के प्रभारी अधिकारी होते हैं, लेकिन बीएसए उन्हें महत्व नहीं देते। यही नहीं, तबादले में वे अपने मन की करते हैं।
कहा तो यहां तक जाता है कि बीएसए तबादला और पदोन्नति के नाम पर मोटी कमाई करते हैं। इसलिए शासन ने इस बार पदोन्नति और तबादला प्रक्रिया में सीधे एडी बेसिक को जोड़ दिया है, ताकि इसके नाम पर होने वाली धांधली रोकी जा सके।
  • ट्रेनिंग के साथ निगाह भी रखें : रामगोविंद
लखनऊ । बेसिक शिक्षा मंत्री रामगोविंद चौधरी ने सोमवार को जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) के प्राचार्यों को नसीहत दी। कहा कि शिक्षकों का केवल प्रशिक्षण शुरू कराने भर से काम नहीं चलेगा, उस पर निगाह रखने की भी जरूरत है।
वह राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद निदेशालय में डायट के प्राचार्यों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि इस पर मंथन करना होगा कि प्राइवेट स्कूलों में बच्चे क्यों अधिक जा रहे हैं और सरकारी स्कूलों में क्यों कम हो रहे हैं। सरकारी स्कूलों में पढ़ाई का स्तर ठीक करना चाहिए, क्योंकि सरकारी स्कूलों में योग्य शिक्षकों की कमी नहीं है। शिक्षकों को आत्म अवलोकन करना चाहिए कि वे बच्चों को कैसी शिक्षा दे रहे हैं। मौजूदा शिक्षा व्यवस्था में बदलाव की जरूरत है। आम लोगों की भागीदारी होनी चाहिए। बैठक में बेसिक शिक्षा विभाग के राज्य मंत्रियों के साथ विभागीय अधिकारी भी उपस्थित थे। (साभार-:-अमर उजाला)



बीएसए की मनमानी पर नकेल : एडी बेसिक से लेनी होगी शिक्षक तबादला संशोधन की अनुमति Reviewed by Brijesh Shrivastava on 11:55 PM Rating: 5

2 comments:

(Head Teacher) said...

Good news

Anonymous said...

To prevent any irregularties regarding transfer of teacher at intradistrict level, there should adopt a transparent policy viz-online transfer with atleast three option.you can imagine that at what basis transfer is processed at mid session from secretary level.otherwise more discrepancies will prevailed at any end, and the end teacher will suffer it.

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.