स्कूली बच्चे खेलेंगे मेढक दौड़ ,चील झपट्टा , स्थानीय खेल परिषदीय स्कूलों की खेल सूची में शामिल

  • सरकार ने गांवों और कस्बों से जुड़े कई  परंपरागत खेलों को अपनी सूची में शामिल किया
  • सूची में शामिल कुछ ग्रामीण खेल ➤  छुआ-छुऔअल , पिट्ठू  यानी  गेंद तुड़ी , तीन मैदान चकमा बॉल, चीता-चीतल, मेढक दौड़,कोड़ा जमाल शाही ,गोल में बन्दर,लंगड़ी कबड्डी, चील झपट्टा खो-खो, कबड्डी

गेंद तड़ी....पिट्ठू...छुआ-छुऔवल...चीता-चीतल...मेढक दौड़...चील-झपट्टा....! कुछ याद आया ये वही खेल हैं, जिन्हें  वर्षों पहले हम-आप खेला करते थे | अब भी ये किसी न किसी गाँव और कस्बे में मौजूद हैं | अब  इन स्थानीय खेलों को परिषदीय स्कूलों की खेल सूची  में शामिल कर  लिया गया  है |  इन खेलों के माध्यम  से विद्यार्थी खेलने के साथ-साथ कुछ सीख भी सकेंगे |
पिछले दिनों इसके लिए लखनऊ में मास्टर ट्रेनरों की ट्रेनिंग हुई थी | इसमें आए प्रतिभागियों ने स्थानीय स्तर पर खेले जा रहे खेलों पर चर्चा की | इसमें कई ऐसे खेल निकल कर आए जिनसे बच्चे अंकगणित, रेखागणित, विज्ञान, पर्यावरण आदि  के बारे में जानकारी  हासिल  कर सकते हैं | बाद में विशेषज्ञों ने इन पर अध्ययन कर इनमे से कई खेलों को अपनी सूची में शामिल कर लिया | जूनियर व प्राइमरी स्तर पर खेलों की सूची तैयार कर ली गई है | इन खेलों को खेलने का तरीका व उससे हासिल होने वाले कौशल के बारे में विस्तार से एक माड्यूल तैयार किया गया है | इन्हें मेनुअल तौर पर हर स्कूल  में  भेजा  जायेगा,  ताकि  पूरे  प्रदेश  के  अध्यापक  इन्हें विद्यार्थियों को सिखा सकें |
(साभार-हिन्दुस्तान)
स्कूली बच्चे खेलेंगे मेढक दौड़ ,चील झपट्टा , स्थानीय खेल परिषदीय स्कूलों की खेल सूची में शामिल Reviewed by BRIJESH SHRIVASTAVA on 7:23 PM Rating: 5

2 comments:

Anonymous said...

Pahale ak bacche se krida sulk liya jata tha to nyaypanchayat, block, dist,mandal,stad par khel hote the par jab picchale do saal se sarkar ne krida shulk band kar diya aur n he anudan beja phir ye khel kishprakar hoge.

Anonymous said...

Pahale ak bacche se krida sulk liya jata tha to nyaypanchayat, block, dist,mandal,stad par khel hote the par jab picchale do saal se sarkar ne krida shulk band kar diya aur n he anudan beja phir ye khel kishprakar hoge.

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.