शिक्षक भर्ती : बाहर हो जाएंगे हजारों अभ्यर्थी

  • शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में एक नया पेच
  • ग्रेडिंग का विकल्प ना होने से अभ्यर्थी परेशान
  • अदालत जाने का बनाया मन
 इलाहाबाद। न  लाइन  आवेदन में  पूर्णाक  और  प्राप्तांक  को  लेकर  ग्रेडिंग  सिस्टम  के  तहत  आने  वाले अभ्यर्थियों  ने  कोर्ट जाने  का मन  बनाया है। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय से बीएड की डिग्री    हासिल करने वाले अनिल कुमार द्विवेदी ने बताया कि ऑनलाइन आवेदन में ग्रेडिंग के तहत प्राप्त प्रतिशत का कोई कॉलम नहीं है। ग्रेडिंग के स्थान पर पूर्णाक और प्राप्तांक का उल्लेख किया गया है जो हम लोगों के अंक पत्र में नहीं है। इस समस्या के समाधान के लिए निदेशक बेसिक शिक्षा,  निदेशक  एससीईआरटी और सचिव  बेसिक  शिक्षा परिषद से निवेदन किया गया लेकिन उनकी समस्याओं का  समाधान नहीं हुआ।   वर्तमान परिस्थिति में इन अभ्यर्थियों के  पास  न्यायालय  जाने  के  अलावा  कोई  विकल्प  नहीं  है।
 शिक्षक  पात्रता  परीक्षा (टीईटी)  के तहत    बेसिक   स्कूलों  में     शिक्षकों के   72,825 रिक्त  पदों की  भर्ती के ऑनलाइन आवेदन की विसंगतिया थमने का नाम नहीं ले रही हैं।  टीईटी आवेदन की तिथि जैसे-जैसे नजदीक आती जा रही है, वैसे-वैसे आवेदन के  प्रारूप में कुछ  नये पेंच   सामने आ   रहे हैं।  अभी  तक    तो ऑन  लाइन आवेदन  आयु सीमा  और  शुल्क  को उलझा  रहा, अब आवेदन प्रारूप में प्राप्तांक और पूर्णाक को लेकर समस्या सामने आ रही है।
समस्या उन बीएड डिग्रीधारकारकों की है जिन्हें बीएड के अंक पत्र में पूर्णाक और प्राप्तांक के स्थान पर ग्रेडिंग का उल्लेख है। जबकि टीईटी के लिए विज्ञापित ऑनलाइन प्रारूप में पूर्णाक और प्राप्तांक का कॉलम भरना है। इस व्यवस्था से अभ्यर्थियों के बीच संशय की स्थिति बन गयी है। अभ्यर्थियों को समझ में  नहीं आ रहा है कि ऑनलाइन आवेदन प्रारूप के कॉलम पूर्णाक और प्राप्तांक में ग्रेडिंग का उल्लेख कैसे किया जाय। टीईटी के लिए विज्ञापित  आवेदन  की इस  प्रक्रिया  से करीब  दस हजार  अभ्यर्थी  प्रभावित  हो रहे हैं।  अब इन अभ्यर्थियों के शिक्षक भर्ती प्रक्रिया से बाहर होने की  संभावना  बढ़  गई  है। उल्लेखनीय है कि  बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू), शकुंतला  पुनर्वास
विश्वविद्यालय लखनऊ, देवी अहिल्या  विश्वविद्यालय इंदौर और एनसीईआरटी के तहत रीजनल इंस्टीट्यूट ऑफ  एजुकेशन के  तहत भोपाल, शिलांग, मैसूर और दिल्ली में  बी.एड  पाठ्यक्रम का प्रशिक्षण कराया  जाता है | उक्त  संस्थानों से अभ्यर्थियों को बी.एड. के अंक   पत्र में पूर्णांक व   प्राप्तांक की  बजाय ग्रेडिंग दर्ज  होती है | टीईटी के तहत   शिक्षक भर्ती के ऑनलाइन आवेदन के प्रारूप    के  लिए यह ग्रेडिंग  मान्य नहीं है | ऑनलाइन आवेदन का प्रारूप   देखने के बाद  अभ्यर्थियों ने संबंधित    संस्थानों   से पूर्णांक और प्राप्तांक की मांग की   लेकिन कॉलेज  संचालकों ने कन्वर्जन  स्केल देने से मना कर दिया | ऐसे  अभ्यर्थियों के   सामने आवेदन  से   वंचित   रहने का   खतरा बढ़    गया है |  वर्तमान परिस्थिति में   इन  अभ्यर्थियों के   पास न्यायालय   जाने के अलावा    कोई      विकल्प  नहीं है। डायट प्राचार्य  विनय  पाण्डेय    का   कहना है   कि इस समस्या का   निस्तारण शासन स्तर से   ही हो सकता है | इसके सिवाय कोई और उपाय नहीं है |
(साभार-डेली न्यूज एक्टिविस्ट)



शिक्षक भर्ती : बाहर हो जाएंगे हजारों अभ्यर्थी Reviewed by BRIJESH SHRIVASTAVA on 1:35 PM Rating: 5

1 comment:

roh said...

picture abi baki hai mere dost.... Hahaha

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.